एक मजबूत राष्ट्र के निर्माण के लिए विविध विचारों को स्वीकार करें, सुनें और समझें : पायलट

 एक मजबूत राष्ट्र के निर्माण के लिए विविध विचारों को स्वीकार करें, सुनें और समझें : पायलट
accept-listen-and-understand-diverse-ideas-to-build-a-strong-nation-pilot

जयपुर, 13 अगस्त (आईएएनएस)। विभिन्न विचारों और विचारधाराओं को स्वीकार करने, सुनने और समझने के लोकतांत्रिक मानदंडों के बाद भारत एक वैश्विक शक्ति बन सकता है। यह बात पूर्व उप-मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व पीसीसी प्रमुख सचिन पायलट ने कही। पायलट, जिन्होंने 2004 में 26 साल की उम्र में सबसे कम उम्र में सांसद बनकर एक रिकॉर्ड बनाया था, का कहना है कि देश के लिए सबसे अच्छा क्या है, इस पर आम सहमति बनाते हुए हमें आगे बढ़ने की जरूरत है। भारत को एक वैश्विक शक्ति बनाने के लिए अपने विचारों को साझा करते हुए युवा राजनेता कहते हैं, एक लोकतांत्रिक देश में, एक अलग राय की भूमिका एक प्रमुख राय की तरह महत्वपूर्ण है। हमें विभिन्न विचारों, विचारधाराओं और विचारों को स्वीकार करने, सुनने और समझने की आवश्यकता है। भारत के लिए जो सबसे अच्छा हो सके, उसके लिए आम सहमति बनाने और आगे बढ़ने के लिए यह जरूरी है। पायलट राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम रह चुके हैं। वे कहते हैं, एक देश और एक समाज के रूप में हमें जो करना है वह पूरी दुनिया के लिए एक आदर्श और एक प्रकाशस्तंभ बनना चाहिए, इससे भारत को हमारे देश के लिए एक वैश्विक दर्जा हासिल करने में मदद मिलेगी और हमें एक वैश्विक शक्ति के रूप में उभरने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा, पिछले आधे दशक से, विचारों को स्वीकार नहीं किया जा रहा है। इसलिए, 75 साल पहले 1947 में जाने की जरूरत है, यह जानने के लिए कि कितनी विचारधाराओं, कितनी रियासतों, इतने विविध विचारों के बावजूद हम एकजुट रहे। आखिरकार, हम एक राष्ट्र के रूप में एक साथ आए। पायलट ने आईएएनएस से कहा, यह वह समय है, जब हमें एक मजबूत भारत के निर्माण के लिए समान मूल्य प्रणाली विकसित करने की आवश्यकता है। बहुत कुछ किया गया है लेकिन बहुत कुछ करने की जरूरत है। पायलट ने कहा, चुनाव आएंगे और जाएंगे, पार्टियां आएंगी और जाएंगी, सरकारें आएंगी और जाएंगी लेकिन राष्ट्र हमेशा रहेगा और इस राष्ट्र को मजबूत होने की जरूरत है। एक मजबूत राष्ट्र के निर्माण के लिए, हर आवाज सुनी जानी चाहिए, कोई बात नहीं हम चाहे कितने हाशिए पर हों। उन्होंने आगे कहा, भारत सबसे युवा देशों में से एक है और हम राजनेताओं के रूप में इस पीढ़ी के लिए बहुत कुछ कर रहे हैं। हमें यह मूल्यांकन करने की आवश्यकता है कि हम युवा पीढ़ी को कितने आर्थिक अवसर प्रदान कर सकते हैं। युवाओं के बारे में बात करते हुए पायलट ने कहा, क्या हम उन्हें वह पारिस्थितिकी तंत्र प्रदान करने में सक्षम हैं, जिसके वे हकदार हैं? उनकी प्रतिभा कहीं अधिक मजबूत है और इसलिए युवा भारत को सभी दलों के राजनीतिक नेतृत्व के एक साथ आने की उम्मीद है। --आईएएनएस एकेके/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.