आम आदमी पार्टी ने बिकरू नाबालिग विधवा का किया समर्थन

 आम आदमी पार्टी ने बिकरू नाबालिग विधवा का किया समर्थन
aam-aadmi-party-supports-bikru-minor-widow

लखनऊ, 9 जून (आईएएनएस)। आम आदमी पार्टी (आप) ने अब बिकरू की विधवा खुशी के लिए कदम उठाया है, जो पिछले दस महीनों से जेल में बंद है। आप सांसद संजय सिंह ने खुशी की तत्काल रिहाई की मांग की है, जो नाबालिग है और खून की उल्टी के बाद लोहिया अस्पताल में भर्ती है। खुशी की शादी को सिर्फ तीन दिन हुए थे। 3 जुलाई को बिकरू गांव हत्याकांड में आठ पुलिस कर्मी मारे गए थे। खुशी का पति अमर दुबे एक आरोपी था और वह कुछ दिनों बाद पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था। यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को दिए ज्ञापन में संजय सिंह ने कहा है कि पुलिस ने खुशी समेत चार महिलाओं को फंसाया है और उन्हें पिछले 10 महीने से हिरासत में रखा है। सिंह ने चार महिलाओं का नाम लिया है, तीन दुबे से संबंधित हैं और एक मुख्य आरोपी विकास दुबे के घर पर काम करती है। उन्होंने आरोप लगाया कि चारों को फर्जी मामलों में फंसाया गया है। सिंह ने यह भी कहा, कानपुर के बिकरू कांड में चार महिलाओं को पिछले 10 महीनों से जेल में बिना कानून पर विचार किए रखा गया है। इसमें चार महिलाएं, तीन दुबे से संबंधित हैं, जिनमें एक नाबालिग और उसके साथ काम करने वाली एक महिला भी शामिल है। दो नाबालिग बच्चे जिनमें से एक सात साल और दूसरा 2.5 साल का है। सिंह ने यह भी दावा किया है कि कानपुर के तत्कालीन एसएसपी ने सार्वजनिक रूप से घोषणा की थी कि खुशी को दोषी नहीं पाया गया है और जल्द ही रिहा कर दिया जाएगा, लेकिन वह जेल में बंद है। सिंह ने राज्यपाल से अपील की है, मैं आपसे इस मामले में तुरंत हस्तक्षेप करने और सरकार से नियमों का पालन कराने का अनुरोध करता हूं। निर्दोष महिलाओं को जल्द से जल्द रिहा किया जाना चाहिए। --आईएएनएस एचके/एएनएम