​मुंबई तट पर डूबे जहाज के 60 शव मिले, 15 कर्मचारी अभी लापता

​मुंबई तट पर डूबे जहाज के 60 शव मिले, 15 कर्मचारी अभी लापता
60-dead-bodies-of-ship-drowned-off-mumbai-coast-15-employees-still-missing

- नौसेना ने पानी के भीतर खोज करने के लिए विशेष डाइविंग दल को भेजा - दो और जहाजों को भेजकर 6ठवें दिन और तेज किया गया रेस्क्यू ऑपरेशन नई दिल्ली, 22 मई (हि.स.)। भारत के पश्चिमी तट पर चक्रवात तूफान ताउते के दौरान समुद्री लहरों में फंसकर एफकॉन्स कंपनी के जहाज बार्ज पी-305 के डूबने के बाद अबतक 60 शव बरामद किये जा चुके हैं। हालांकि अभी तक लापता 15 कर्मचारियों की तलाश में नौसेना ने 6 ठवें दिन रेस्क्यू ऑपरेशन और तेज कर दिया है। मुंबई से दो जहाजों के साथ पानी के भीतर खोज करने के लिए विशेष डाइविंग दल को शनिवार की सुबह रवाना किया गया है। अरब सागर में उठे ताउते तूफान में 17 मई को बांबे हाई के पास तेल उत्खनन के काम में लगा एफकॉन्स कंपनी का बार्ज पी-305 समुद्र में बह गया था। ओएनजीसी ने शुरू में कहा था कि बार्ज पर 273 कर्मचारी सवार थे लेकिन बाद में संख्या को संशोधित करके 261 कर दिया गया। बार्ज पी-305 डूबने के बाद अबतक 60 शव बरामद किये जा चुके हैं, जबकि अभी भी 15 कर्मचारी लापता हैं। बचाए गए सभी 186 कर्मचारी 20 मई की देर रात मुंबई बंदरगाह पर लाये जा चुके हैं। भारतीय नौसेना के जहाज एवं विमान अभी भी मुंबई से 35 मील दूर डूबे बार्ज पी-305 जहाज के लापता चालक दल के 15 सदस्यों का पता लगाने के लिए खोजबीन और बचाव (एसएआर) अभियान छठे दिन भी चला रहे हैं। इस खोजबीन व बचाव अभियान में आईएनएस कोच्चि, कोलकाता, ब्यास, बेतवा, तेग, पी-8आई समुद्री निगरानी विमान, चेतक, एएलएच और सीकिंग हेलीकॉप्टर भी शामिल हैं। नौसेना ने 6वें दिन रेस्क्यू ऑपरेशन और तेज कर दिया है। नौसेना ने विशेष टीमों और उपकरणों का उपयोग करके सर्वेक्षण जहाज के जरिये पानी के भीतर खोज की योजना बनाई है। यह टीमें समुद्र में डूबे बार्ज पी-305 और टग वरप्रदा के मलबे का पता लगाएंगी। नौसेना प्रवक्ता के अनुसार बार्ज पी-305 और टग वरप्रदा की तलाश में चल रहे राहत एवं बचाव कार्य का संचालन बढ़ाने के लिए आईएनएस मकर (सोनार के साथ) और आईएनएस तरासा पर विशेष डाइविंग दल को आज सुबह मुंबई से रवाना किया गया है। नौसेना के गोताखोरों की यह टीम पानी के भीतर जाकर मलबा ढूंढने के अलावा लापता 15 कर्मचारियों की खोज करेगी। हिन्दुस्थान समाचार/सुनीत / प्रभात ओझा