‘वो शव हथियार के साथ जम चुके थे, हम हथियार खींचते तो शरीर के टुकड़े भी साथ निकलकर आ जाते थे’
‘वो शव हथियार के साथ जम चुके थे, हम हथियार खींचते तो शरीर के टुकड़े भी साथ निकलकर आ जाते थे’
देश

‘वो शव हथियार के साथ जम चुके थे, हम हथियार खींचते तो शरीर के टुकड़े भी साथ निकलकर आ जाते थे’

news

रिटायर्ड हवलदार फुंचुक अंगदोस 80 साल के हैं। चीन के साथ 1962 की जंग लड़ चुके हैं, तब इनकी उम्र 23 साल थी। सेरिंग कहते हैं, हमारे सैनिकों की उंगलियों में बर्फ से जख्म हो गए थे, जख्म इतने गहरे थे कि उन्हें हमें अपने हाथों से खाना खिलाना पड़ता क्लिक »-newsindialive.in