‘फादर्स डे’: माथे पे लकीरों का आकार बदल जाता है- बेटा जब बाप बन जाता है

‘फादर्स डे’: माथे पे लकीरों का आकार बदल जाता है- बेटा जब बाप बन जाता है
‘फादर्स-डे’-माथे-पे-लकीरों-का-आकार-बदल-जाता-है--बेटा-जब-बाप-बन-जाता-है

मैं उस शख्स अब तक नहीं पहचान पाया... जो कहता तो खुद को बाप है.. और सह जाता हर ताप है... पिता पर लिखने का मौका आता है तो ओर छोर ही नहीं मिलता, गूगल पर सर्च करेंगे तो पिता पर निबंध तो मिल जायेगा, कोटेशन भी मिल जाएंगे, लेकिन क्लिक »-www.ibc24.in

अन्य खबरें

No stories found.