सोशल वैक्सीन वैश्विक महामारी कोरोना को रोक सकती है- डॉ. हर्ष वर्धन
सोशल वैक्सीन वैश्विक महामारी कोरोना को रोक सकती है- डॉ. हर्ष वर्धन
देश

सोशल वैक्सीन वैश्विक महामारी कोरोना को रोक सकती है- डॉ. हर्ष वर्धन

news

सोशल वैक्सीन इस महामारी को रोक सकता है- डॉ. हर्ष वर्धन -आईआरसीएस के शताब्दी वर्ष में इसकी वार्षिक आम बैठक की अध्यक्षता की नई दिल्ली, 15 अक्टूबर (हि.स.)। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने आज इंडियन रेड क्रॉस सोसायटी(आईआरसीएस) और सेंट जोन्स एम्बुलेंस की वार्षिक आम बैठक की अध्यक्षता की। इस मौके पर डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि सोशल वैक्सीन इस महामारी को रोक सकता है, यह सोशल वैक्सीन कोविड के खिलाफ जन-आंदोलन का आधार भी है। आपस में दो गज की दूरी रखने, नियमित रूप से हाथ धोने और हर समय मास्क पहनने से लोगों का जीवन और आजीविका बचाई जा सकती है, जो कि सरकार का लक्ष्य भी है। उन्होंने कहा कि आईआरसीएस और सेंट जोन्स एम्बुलेंस के सभी सदस्य इन साधारण सावधानियों को जन-जन तक पहुंचाने के काम में सहयोग दें। यदि हम इन सावधानियों का पूरी तरह पालन करेंगे तो इस वर्ष में ही हम कोरोना को पराजित कर सकेंगे। आईआरसीएस की रक्तदान केन्द्रों और रक्त सेवाओं में भूमिका पर संतोष व्यक्त करते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा, ‘आईआरसीएस ने अपने रक्त केन्द्रों के जरिए यह सुनिश्चित किया है कि जरूरतमंद लोगों को रक्त की कोई कमी न आए। स्वैच्छिक रक्तदान को नये-नये तरीके से बढ़ावा देने के साथ कर्मचारियों, प्रबंधकों और वॉलेंटियरों के निष्ठापूर्वक प्रयासों से देश भर में चौबीसों घंटे सातों दिन रक्त सेवाएं उपलब्ध रही हैं।’ उन्होंने आईआरसीएस के सदस्यों का नई सेवाओं जैसे कि थैलेसीमिया सेंटर और राष्ट्रीय मुख्यालय रक्त केन्द्र में 24x7 नियंत्रण कक्ष और रेड क्रॉस द्वारा विकसित ‘ई-ब्लड सर्विसेज’ मोबाइल एप के लिए धन्यवाद किया। इस ऐप से यह सुनिश्चित किया जा सकता है कि जरूरतमंद व्यक्ति स्वयं पहुंचने से पहले रक्त की उपलब्धता सुनिश्चित करा सकता है। उन्होंने कहा कि इंडियन रेड क्रॉस और सेंट जोन्स एम्बुलेंस सामुदायिक आधारित फर्स्ट एड प्रदान करने वाले प्रमुख प्रदाता हैं। उन्होंने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में हाल ही में आए चक्रवाती तूफान अम्फान और असम, बिहार और उत्तर प्रदेश में बाढ़ के दौरान इन संगठनों की त्वरित कार्रवाई के लिए सराहना की। उन्होंने कहा कि आईआरसीएस अपनी आपदा तैयारी और कार्रवाई क्षमता विकसित कर रहा है, जिसके लिए वॉलेंटियर्स को प्रशिक्षण दिया जा रहा है, राहत भंडार तैयार किया जा रहा है और जागरूकता विकसित करने तथा आपदा के प्रभाव में कमी लाने की गतिविधियों की तैयारी की जा रही है। स्थानीय वॉलेंटियर्स को फर्स्ट एड और आपदा प्रबंधन में प्रशिक्षण के लिए सामाजिक आपदा कार्रवाई वॉलेंटियर (एसईआरवी) परियोजना के कामकाज का विस्तार किया जा रहा है। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी, हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंदारू दत्तात्रेय, मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्लाह, उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्या भी सम्बंधित राज्यों में रेड क्रॉस की अध्यक्ष होने के नाते बैठक में उपस्थित रहीं। बैठक में आईआरसीएस के उपाध्यक्ष अविनाश राय खन्ना, आईआरसीएस और सेंट जोन्स एम्बुलेंस (भारत) के सेक्रेट्री जनरल आर.के. जैन, केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण और आईआरसीएस के वरिष्ठ अधिकारी इस कार्यक्रम में उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार, विजयलक्ष्मी-hindusthansamachar.in