सेनारी नरसंहार की बर्बर कहानी, हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार को लाशें देख पड़ा था दिल का दौरा, जानें 1999 की रात को क्या हुआ था

सेनारी नरसंहार की बर्बर कहानी, हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार को लाशें देख पड़ा था दिल का दौरा, जानें 1999 की रात को क्या हुआ था
सेनारी-नरसंहार-की-बर्बर-कहानी-हाईकोर्ट-के-रजिस्ट्रार-को-लाशें-देख-पड़ा-था-दिल-का-दौरा-जानें-1999-की-रात-को-क्या-हुआ-था

"हीन मूल की ओर देख जग गलत कहे या ठीक, वीर खींचकर ही रहते हैं इतिहासों में लीक। दया-धर्म जिसमें हो, सबसे वही पूज्य प्राणी है। सबसे श्रेष्ठ वही ब्राह्मण है, हो जिसमें तप-त्याग।" राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की जो सोच है वो आम जनमानस की सोच रही है। आज क्लिक »-www.prabhasakshi.com

अन्य खबरें

No stories found.