सीबीआई का 135 करोड़ की बैंक धोखाधड़ी के मामले में 19 ठिकानों पर छापा
सीबीआई का 135 करोड़ की बैंक धोखाधड़ी के मामले में 19 ठिकानों पर छापा
देश

सीबीआई का 135 करोड़ की बैंक धोखाधड़ी के मामले में 19 ठिकानों पर छापा

news

नई दिल्ली, 17 जुलाई (हि.स.)। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने केनरा बैंक से 135 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में फरीदाबाद (हरियाणा) की एक कंपनी और उसके छह निदेशकों के खिलाफ केस दर्ज कर देश में 19 स्थानों पर छापे मारे हैं। इसके अलावा सीबीआई ने बैंक के कुछेक अधिकारियों पर भी शिकंजा कसा है। सीबीआई के प्रवक्ता आर.के. गौड़ ने बताया कि केनरा बैंक ने शिकायत में आरोप लगाया है कि फरीदाबाद के एसआरएस ग्रुप ने बैंक के साथ 135.15 करोड़ की धोखाधड़ी की है। आरोपितों में एसआरएस ग्रुप ऑफ कंपनीज और उसके डायरेक्टर एसआरएस रियल इंफ्रास्ट्रक्चर, एसआरएस रियल एस्टेट लिमिटेड और डायरेक्टर अनिल जिंदल, राजेश सिंगला, नानक चंद तायल, बिशन बंसल, विनोद जिंदल और जितेंद्र कुमार शामिल हैं। सीबीआई ने इन सभी के खिलाफ मामला दर्ज कर दिल्ली, फरीदाबाद और बेंगलुरु में 19 जगहों पर छापेमारी की है। धोखाधड़ी में अज्ञात बैंक अधिकारी भी शामिल हैं। उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जा रही है। दरअसल, एसआरएस ग्रुप और उसके डायरेक्टरों ने केनरा बैंक से 135.15 करोड़ का लोन लिया था लेकिन उसे कहीं और डायवर्ट कर दिया। बैंक ने जब ऑडिट करवाया और छानबीन की तो पता चला। एसआरएस ग्रुप ऑफ कंपनीज के बिल्डर ने बैंकों से धोखाधड़ी कर बेचे गए फ्लैट को दूसरे बैंकों में चल रहे खाते से ऑपरेट किए ताकि कैनरा बैंक को पता न चले। केनरा बैंक के प्रार्थना पत्र के आधार पर फरीदाबाद पुलिस ने मार्च,2018 में एसआरएस कंपनी और इसके डायरेक्टर अनिल जिंदल, नानक चंद तायल, बिशन बंसल और बाकी आरोपितों के खिलाफ कुल 22 मामले दर्ज कर जांच-पड़ताल शुरू की। साथ ही फ्लैट बुक करने वाले और जिन्होनें अच्छे मुनाफे के लालच में कंपनी में निवेश किया था, उन्होंने भी आरोप लगाया कि कंपनी और इसके डायरेक्टरों ने लोगों के साथ धोखाधड़ी की है। फरीदाबाद पुलिस ने डायरेक्टर अनिल जिंदल और अन्य आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया था। ईडी ने भी कंपनी और डायरेक्टर के खिलाफ मनी लॉड्रिंग का मामला दर्ज किया था और कंपनी के कर्मिशयल प्रोजेक्ट, रिहायशी प्रोजेक्ट, स्कूल, सिनेमा घर समेत बैंकों में जमा कैश (कुल करीब 2500 करोड़ की संपति) को अटैच कर लिया था। अब सीबीआई ने इस मामले में छापेमारी की है। दिल्ली, फरीदाबाद और बेंगलुरु में की गई छापामार कार्रवाई में महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले हैं। सीबीआई की जांच जारी है। हिन्दुस्थान समाचार/जितेन्द्र-hindusthansamachar.in