शारदीय नवरात्र: काशी में घर बैठे ही आदि शक्ति के स्वरूपों का मिल रहा लाइव दर्शन
शारदीय नवरात्र: काशी में घर बैठे ही आदि शक्ति के स्वरूपों का मिल रहा लाइव दर्शन
देश

शारदीय नवरात्र: काशी में घर बैठे ही आदि शक्ति के स्वरूपों का मिल रहा लाइव दर्शन

news

-योगी सरकार की पहल और पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी के निर्देश पर पर्यटन विभाग तिथिवार सुबह और शाम करा रहा दर्शन -विभाग के फेसबुक, यूट्यूब एवं टि्वटर हैंडल पर व्यवस्था,कोरोना काल में सरकार के प्रयास की सराहना श्रीधर त्रिपाठी वाराणसी, 18 अक्टूबर (हि.स.)। वैश्विक महामारी कोरोना संकटकाल के अनलॉक दौर में भी लगातार संक्रमितों की बढ़ती संख्या देख शारदीय नवरात्र में धर्म नगरी काशी के देवी मंदिरों में भीड़ को रोकने के लिए योगी सरकार ने खास पहल की है। लोगों को घर बैठे दर्शन कराने और पूरी सुरक्षा के साथ आध्यात्मिक उत्सव का रंग चटख बनाने के लिए पर्यटन विभाग ने काशी के नौ दुर्गामंदिरों का लाइव प्रसारण शुरू कराया है। लोग घर से ही सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर आदि शक्ति के विविध स्वरूपों को दर्शन कर रहे है। तिथिवार सुबह और शाम देवी मंदिरों से सीधे लाइव दर्शन मिल रहा है। पहले दिन मातारानी शैलपुत्री के दर्शन कराने के बाद यूपी पर्यटन ने रविवार को ब्रह्माघाट स्थित देवी ब्रह्मचारिणी के दरबार का लाइव दर्शन कराया। सोशल मीडिया के पेज पर विभाग ने इसके लिए बाकायदा एक पोस्टर भी जारी किया है। लाइव प्रसारण के दौरान आदि शक्ति के ब्रह्मचारिणी स्वरूप और उनके महिमा को भी बताया जा रहा है। कोरोना काल में सरकार के इस प्रयास की सराहना भी हो रही है। मुख्यमंत्री के सूचना सलाहकार और भाजपा के प्रवक्ता शलभमणि त्रिपाठी ने ट्वीट कर लिखा कि देश की ही एक सरकार जहां नवरात्र के महापर्व पर भी देवी मंदिर खोलने को तैयार नहीं, तब वहीं इस महापर्व के उत्सव में और खूबसूरत रंग भरने के लिये योगी जी की सरकार विख्यात देवी मंदिरों के सीधे लाइव दर्शन करा रही है। ये है योगी का यूपी। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के उत्तरी निकाय के छात्रसंघ अध्यक्ष रहे हेमन्त सिंह 'पिंटू',टेंट कारोबारी व्यापारी नेता राजकुमार जायसवाल, देवी भक्त प्रवीण तिवारी गुड्डू ने भी प्रदेश सरकार और पर्यटन मंत्रालय के प्रयास को सराहा है। उन्होंने कहा कि सामान्य दिनों में शारदीय नवरात्र में काशी के सभी देवी मंदिरों में लाखों की भीड़ उमड़ती रही है। कोरोना काल में संक्रमण के बढ़ने की संभावना को देख सरकार ने भीड़ को रोकने और दर्शन पूजन को आसान सुविधाजनक बनाने के लिए देश के अन्य सरकारों के आगे बड़ी लाइन खींच नजीर पेश किया है। छात्रनेता हेमन्त ने कहा कि काशी के प्रमुख पूजा पंडालों में पूर्व में भी भीड़ को रोकने के लिए लाइव प्रसारण की व्यवस्था रही है। लोग सड़क किनारे और पूजा पंडालों के समीप खड़े होकर पंडाल और देवी के भव्य स्वरूप को देखते रहे है। काशी में महाशिवरात्रि पर बाबा दरबार से भी लाइव प्रसारण होता रहा है। देवी मंदिरों में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर पहली बार लाइव दर्शन कराया जा रहा है। सरकार का प्रयास नेक और सराहनीय है। बताते चले काशी के दक्षिणी विधायक और प्रदेश के पर्यटन संस्कृति धर्मार्थ कार्य एवं प्रोटोकॉल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ0 नीलकंठ तिवारी के निर्देश पर लखनऊ से आयी सोशल मीडिया की टीम पर्यटन विभाग के फेसबुक, यूट्यूब एवं टि्वटर हैंडल के जरिये देवी मंदिरों का लाइव दर्शन करा रही है। टीम काशी के नव दुर्गा मंदिरों से स्ट्रीमिंग के माध्यम से तिथिवार मातारानी के विविध स्वरूपों का लाइव दर्शन प्रातः 7 से 8 बजे तथा सायं 7 से 8 बजे भक्तों को करा रही है। प्रतिदिन इसका पोस्टर भी जारी कर रही है। खास बात यह है कि देवी के सभी नौ स्वरूपों के मंदिर पर्यटन मंत्री के विधानसभा क्षेत्र में ही है। पर्यटन मंत्री का प्रयास है कि काशी के गलियों में स्थित देवी मंदिरों के बारे में देश और दुनिया के सनातनधर्मी जानें। जिससे शहर में नवरात्र के बाद भी धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा मिल सके। काशी के सांसद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी इसको लेकर गंभीर हैं। प्रधानमंत्री वाराणसी के दौरे में कई बार धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की बात कर चुके है। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/राजेश-hindusthansamachar.in