शान्ता कुमार ने महाराष्ट्र के राज्यपाल से की कंगना के सवैधानिक अधिकारों की रक्षा की मांग
शान्ता कुमार ने महाराष्ट्र के राज्यपाल से की कंगना के सवैधानिक अधिकारों की रक्षा की मांग
देश

शान्ता कुमार ने महाराष्ट्र के राज्यपाल से की कंगना के सवैधानिक अधिकारों की रक्षा की मांग

news

पालमपुर, 10 सितम्बर (हि. स.)। भारतीय जनता पार्टी के नेता एवं हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री शान्ता कुमार ने महाराष्ट्र सरकार के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को पत्र लिख कर प्रदेश सरकार द्वारा कंगना रणौत के संवैधानिक अधिकारों को कुचलने पर चिन्ता प्रकट की है। उन्होंने कहा कि हिमाचल की एक प्रतिभाशाली बेटी कंगना रणौत के सम्बन्ध में एक शिव सेना सांसद ने सभ्यता और शालीनता की सारी सीमाएं तोड़ कर शर्मनाक शब्दों का प्रयोग किया है और अब महाराष्ट्र सरकार ने कंगना रणौत के सभी संवैधानिक अधिकारों को कुचल कर उसके घर पर बुलडोजर घुमा दिया है। यह सारी कार्रवाई इतनी बर्वर है कि लोकतंत्र और सभ्य समाज में इसकी कल्पना भी नही की जा सकती। उच्च न्यायालय ने भी सरकार को फटकार लगाई है। शान्ता कुमार ने आगे कहा है कि हम सब हिमाचल वासी और कंगना रणौत का पूरा परिवार बहुत अधिक चिन्ता में हैं। हिमाचल की उस साहसी और प्रतिभाशाली बेटी ने मुम्बई के सिनेमा जगत में अपना प्रशंसनीय स्थान बनाया है। भ्रष्टाचार तथा सिनेमा जगत में व्याप्त बुराईयों के सम्बन्ध में कंगना रणौत को अपने विचार प्रकट करने का संविधान पूरा अधिकार देता है। उन्होंने पत्र द्वारा उनसे विशेष आग्रह कर किया है कि प्रदेश में कंगना रणौत को अपने संवैधानिक अधिकार से वंचित ना किया जाये। प्रदेश सरकार को संविधान की मर्यादाओं का उल्लंघन करने से रोका जाये और इस प्रकार से बदले की भावना से प्रेरित होकर कंगना रणौत से किये गये अन्याय के लिये सरकार के विरूद्ध उचित कार्यवाही हो। शान्ता कुमार ने कहा कि आप प्रदेश के महामहिम राज्यपाल हैं। उन्हें पूरा विश्वास है कि कंगना रनौत को पूरी सुरक्षा व न्याय मिलेगा। हिन्दुस्थान समाचार/सुनील-hindusthansamachar.in