विपक्ष में रहते हुए भाजपा नेताओं को एमनेस्टी इंटरनेशनल से हिम्मत मिलती थी तो सत्ता में आने के बाद यही संस्था खटकने क्यों लगी है
विपक्ष में रहते हुए भाजपा नेताओं को एमनेस्टी इंटरनेशनल से हिम्मत मिलती थी तो सत्ता में आने के बाद यही संस्था खटकने क्यों लगी है
देश

विपक्ष में रहते हुए भाजपा नेताओं को एमनेस्टी इंटरनेशनल से हिम्मत मिलती थी तो सत्ता में आने के बाद यही संस्था खटकने क्यों लगी है

news

बीती 10 सितंबर को एमनेस्टी इंटरनेशनल के सभी बैंक खातों को फ्रीज कर दिया गया था, जिसके बाद संस्था ने अपना काम बंद करने की घोषणा की। केंद्र सरकार का कहना है कि एमनेस्टी इंटरनेशनल ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम और विदेशी अंशदान (विनियमन) अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन किया क्लिक »-newsindialive.in