विकसित महसूस करने के दिन (व्यंग्य)

विकसित महसूस करने के दिन (व्यंग्य)
विकसित-महसूस-करने-के-दिन-(व्यंग्य)

कोरोना की जानदार वापसी के बीच बेशक शमशान में जलने के लिए लाइन लगी है, लेकिन चाइनीज़ मान लिए गए कोरोनाजी का भारतीय वैरियंट भी मैदान में आ गया है। अपना वैरियंट न होने से पिछड़ा हुआ सा लग रहा था। इस मामले में हम अपने पूर्व शासक ब्रिटेन वालों क्लिक »-www.prabhasakshi.com