लोकसभा में विदेश राज्यमंत्री ने कहा- चीन सहित पड़ोसी देशों के साथ नहीं बिगड़े हैं भारत के संबंध
लोकसभा में विदेश राज्यमंत्री ने कहा- चीन सहित पड़ोसी देशों के साथ नहीं बिगड़े हैं भारत के संबंध
देश

लोकसभा में विदेश राज्यमंत्री ने कहा- चीन सहित पड़ोसी देशों के साथ नहीं बिगड़े हैं भारत के संबंध

news

नई दिल्ली, 16 सितम्बर (हि.स.)। सरकार ने बुधवार को लोकसभा में बताया कि चीन सहित पड़ोसी देशों के साथ भारत के संबंध हाल के दिनों में नहीं बिगड़े है। लोकसभा में विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधर ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि भारत चीन सहित पड़ोसी देशों के साथ अपने संबंधों को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है। भारत अपने पड़ोसियों का एक सक्रिय राजनीतिक और आर्थिक भागीदार है और इन देशों के साथ विकास परियोजना में शामिल है। भारत के पड़ोसी देशों के साथ शिक्षा, संस्कृति, व्यापार और निवेश क्षेत्र में व्यापक संबंध है। अन्य देशों के साथ भारत के संबंध अपने बलबूते पर खड़े हैं और अन्य देशों के साथ संबंधों का उन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। तृणमूल कांग्रेस के नेता प्रोफेसर सौगत राय ने पूछा था कि नेपाल, चीन, बांग्लादेश, श्रीलंका, अफगानिस्तान और म्यांमार जैसे पड़ोसी देशों के साथ क्या हमारे द्विपक्षीय संबंध खराब हुए हैं। चीन और ईरान के बीच बढ़ते व्यापार और सैन्य संबंधों पर पूछे गए एक अन्य सवाल के जवाब में दिए लिखित उत्तर में उन्होंने कहा कि भारत के इरान के साथ ऐतिहासिक का करीबी सांस्कृतिक संबंध है। भारत के उसके साथ संबंध किसी तीसरे देश पर निर्भर नहीं है और अपने आप में स्वतंत्र रूप से बने हैं। भारत पश्चिमी देशों के साथ अपने संबंधों को प्राथमिकता देता है और उनके साथ संस्कृति, शिक्षा, व्यापार और निवेश से जुड़े हुए व्यापक संबंध रखता है। विदेश राज्यमंत्री ने चीन के साथ मौजूदा संबंधों पर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि 15 जून 2020 को दोनों देशों के बीच सीमा पर झड़प हुई जिसमें दोनों ओर के सैनिक हताहत हुए। उन्होंने बताया कि इसके बावजूद दोनों देश सैन्य और राजनयिक माध्यमों से बातचीत कर रहे हैं। अपने जवाब में उन्होंने 10 सितंबर को चीन के विदेश मंत्री से हुई वार्ता और उसमें तय हुए पांच बिंदुओं का भी जिक्र किया। विदेश मंत्री ने अपने जवाब में आशा व्यक्त की कि दोनों देश और राजनयिक और सैन्य स्तर पर बातचीत कर रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अनूप/सुनीत-hindusthansamachar.in