माखनलाल-चतुर्वेदी-ने-लिखा-था--पुलिसवजीर-सब-किसान-की-कमाई-का-खेल
माखनलाल-चतुर्वेदी-ने-लिखा-था--पुलिसवजीर-सब-किसान-की-कमाई-का-खेल
देश

माखनलाल चतुर्वेदी ने लिखा था- पुलिस,वजीर सब किसान की कमाई का खेल

news

शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो, जिसने स्कूली शिक्षा के दौरान या फिर साहित्य-अध्ययन के दौरान ‘पुष्प की अभिलाषा’ कविता न पढ़ी हो. चाह नहीं मैं सुरबाला के, गहनों में गूंथा जाऊं, चाह नहीं प्रेमी-माला में बिंध, प्यारी को ललचाऊं चाह नहीं सम्राटों के शव पर, हे हरि डाला जाऊं क्लिक »-hindi.thequint.com