महिला सुरक्षा के मुद्दे पर राहुल ने योगी सरकार को घेरा, पूछा- अभिया 'बेटी बचाओ' है या 'अपराधी बचाओ'
महिला सुरक्षा के मुद्दे पर राहुल ने योगी सरकार को घेरा, पूछा- अभिया 'बेटी बचाओ' है या 'अपराधी बचाओ'
देश

महिला सुरक्षा के मुद्दे पर राहुल ने योगी सरकार को घेरा, पूछा- अभिया 'बेटी बचाओ' है या 'अपराधी बचाओ'

news

नई दिल्ली, 18 अक्टूबर (हि.स.)। उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ बढ़ रहे अपराधों को लेकर कांग्रेस पार्टी लगातार योगी आदित्यनाथ सरकार पर हमलावर है। हाथरस मामले में पीड़ित परिवार को परेशान करने का आरोप लगाने वाली कांग्रेस पार्टी को अब लखीमपुर खीरी की घटना के बाद एक और मौका मिल गया है। ऐसे में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार की बेटी बचाओ अभियान पर ही सवाल खड़ा कर दिया है। उन्होंने पूछा है कि आखिर राज्य में किस प्रकार की कानून व्यवस्था है कि एक विधायक छेड़खानी के आरोप में थाने लाए गए आरोपित को छुड़ाकर ले जाते हैं और पुलिस मूकदर्शक बनी रहती है। राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था की स्थिति को लेकर आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि "अभियान की शुरुआत कैसे हुई : बेटी बचाओ.... क्या चल रहा : अपराधी बचाओ" आखिर सरकार किस प्रकार से बेहतर कानून व्यवस्था की बात कर अपनी पीठ थपथपाने में लगी है। राहुल गांधी ने अपने ट्वीट के साथ एक खबर भी साझा की है जिसमें कहा गया है कि भाजपा के एक विधायक और उनका बेटा महिला उत्पीड़न के आरोपित को पुलिस हिरासत से ले गए। कांग्रेस नेता ने इस घटना को राज्य सरकार के ‘अपराधी बचाओ’ मिशन के तहत किया गया कृत्य करार दिया है। उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के मोहम्मदी कोतवाली पुलिस ने शनिवार को भाजपा के एक कार्यकर्ताओं के छेड़खानी के आरोप में गिरफ्तार किया। लेकिन जैसे ही इस मामले की जानकारी भाजपा विधायक लोकेंद्र बहादुर को हुई तो वो अपने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ थाने पर पहुंच गए। वहां पुलिस टीम को धमकाते हुए जबरन आरोपित को छुड़ाकर साथ ले गए। कानून व्यवस्था को धता बताती इस घटना को लेकर ही कांग्रेस पार्टी यूपी सरकार के प्रति हमलावर है। हिन्दुस्थान समाचार/आकाश-hindusthansamachar.in