भारत-रूस-चीन ने आपसी समझदारी और विश्वास को बढ़ावा देने पर दिया बल
भारत-रूस-चीन ने आपसी समझदारी और विश्वास को बढ़ावा देने पर दिया बल
देश

भारत-रूस-चीन ने आपसी समझदारी और विश्वास को बढ़ावा देने पर दिया बल

news

नई दिल्ली, 10 सितम्बर (हि.स.)। भारत-रूस और चीन ने तीनों देशों के बीच आपसी सहयोग और विकास को दुनिया में शांति, स्थायित्व और आर्थिक विकास के लिए आवश्यक बताया है। तीनों देशों ने आपसी समझदारी, मित्रता और विश्वास को बढ़ावा देने के लिए त्रिपक्षीय सहयोग पर विचार-विमर्श किया है। रूस की राजधानी मॉस्को में ‘रूस-भारत-चीन(रिक) वार्ता प्रक्रिया’ के तहत विदेश मंत्री एस जयशंकर रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव और चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों के साथ कोरोना महामारी से उत्पन्न संकट पर विचार-विमर्श किया। बैठक के बाद जारी एक संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया कि तीनों देशों की वैज्ञानिक और औद्योगिक क्षमताओं के आधार पर कोरोना महामारी का कारगर तरीके से मुकाबला किया जा सकता है। पूर्वी लद्दाख में जारी सैन्य तनाव के बीच इस त्रिपक्षीय वार्ता का आयोजन हुआ तथा भारतीय और चीनी विदेश मंत्री की यह पहली सीधी मुलाकात थी। बैठक में रिक फ्रेमवर्क के तहत तीनों देशों के बीच विविधता पूर्ण संपर्क और संवाद पर संतोष व्यक्त किया गया। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गत 23 जून को हुई वार्ता का उल्लेख करते हुए प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया कि तीनों देश सर्व समावेशी अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के पक्षधर हैं जो मान्य अंतरराष्ट्रीय कानूनों पर आधारित हो। भारत और चीन के विदेश मंत्रियों ने बैठक के आयोजन के लिए मेजबान रूस का आभार व्यक्त किया। बैठक के दौरान रूस के विदेश मंत्री ने रिक मंच की अध्यक्षता विधिवत तौर पर एस जयशंकर को सौंपी। इससे अब भारत की अध्यक्षता में अगली बैठक का आयोजन भारत में होना तय है। हिन्दुस्थान समाचार/अनूप/सुफल-hindusthansamachar.in