भारत में गरीब और अमीर के लिए दो समानांतर कानूनी प्रणालियां नहीं हो सकतीं: न्यायालय

भारत में गरीब और अमीर के लिए दो समानांतर कानूनी प्रणालियां नहीं हो सकतीं: न्यायालय
भारत-में-गरीब-और-अमीर-के-लिए-दो-समानांतर-कानूनी-प्रणालियां-नहीं-हो-सकतीं-न्यायालय

नयी दिल्ली, 22 जुलाई (भाषा) उच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत में अमीर, संसाधनों से युक्त और राजनीतिक रूप से ताकतवर लोगों और न्याय तक पहुंच एवं संसाधनों से वंचित‘‘छोटे लोगों’’ के लिए दो समानांतर कानूनी प्रणालियां नहीं हो सकती। न्यायालय ने यह भी कहा कि ‘‘जिला न्यायापालिका क्लिक »-www.ibc24.in