भारत-आसियान मंत्रीस्तरीय बैठक में पंचवर्षीय कार्ययोजना स्वीकार की गई, विदेश मंत्री ने की सहअध्यक्षता
भारत-आसियान मंत्रीस्तरीय बैठक में पंचवर्षीय कार्ययोजना स्वीकार की गई, विदेश मंत्री ने की सहअध्यक्षता
देश

भारत-आसियान मंत्रीस्तरीय बैठक में पंचवर्षीय कार्ययोजना स्वीकार की गई, विदेश मंत्री ने की सहअध्यक्षता

news

नई दिल्ली, 12 सितम्बर (हि.स.)। भारत और दक्षिण पूर्व एशिया के देशों के संगठन आसियान ने अपनी रणनीतिक साझेदारी को और मजबूत बनाने के लिए शनिवार को अगले पांच वर्षों (2021-25) की नई कार्ययोजना स्वीकार की। विदेश मंत्री एस जयशंकर और आयिसान देशों के बीच वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए हुई बैठक में नई कार्ययोजना स्वीकार की गई। भारत-आसियान देशों के बीच पहली कार्ययोजना 2016-2020 स्वीकार की गई थी जिसमें समान हितों को आगे बढ़ाने के लिए राजनीतिक सुरक्षा संबंधी, आर्थिक और सामाजिक-सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत बनाने के कदम शामिल थे। बैठक में पिछली कार्ययोजना की समीक्षा की गई तथा अगामी 17वें भारत-आसियान शिखर सम्मेलन की तैयारियों का जायजा लिया गया। विदेश मंत्रालय की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भारत-आसियान मंत्री स्तरीय बैठक की थाईलैंड के विदेश मंत्री डॉन प्रमुदविनय के साथ सह-अध्यक्षता की। विज्ञप्ति के अनुसार इस बैठक में भारत-आसियान रणनीतिक साझीदारी से जुड़े कई क्षेत्रों जिसमें समुद्री सहयोग, संपर्क, शिक्षा, क्षमता विकास और लोगों के बीच संपर्क जैसे विशेष शामिल रहे की समीक्षा की गई। बैठक में भाग लेने वाले मंत्रियों ने महामारी के दौरान आपसी सहयोग को बढ़ाने और क्षेत्रीय अंतरराष्ट्रीय घटनाक्रम पर विचार साझा किए। हिन्दुस्थान समाचार/अनूप/सुफल-hindusthansamachar.in