भारतीय अदालतों में 4.5 करोड़ मामले लंबित होने का आंकड़ा ‘अतिशयोक्तिपूर्ण’ कथन : प्रधान न्यायाधीश
भारतीय-अदालतों-में-45-करोड़-मामले-लंबित-होने-का-आंकड़ा-‘अतिशयोक्तिपूर्ण’-कथन-प्रधान-न्यायाधीश

भारतीय अदालतों में 4.5 करोड़ मामले लंबित होने का आंकड़ा ‘अतिशयोक्तिपूर्ण’ कथन : प्रधान न्यायाधीश

नयी दिल्ली, 17 जुलाई (भाषा) प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण ने शनिवार को कहा कि भारतीय अदालतों में 4.5 करोड़ मामले लंबित होने का आंकड़ा एक ‘‘अतिशयोक्तिपूर्ण कथन’’ और ‘‘सही तरीके से नहीं किया गया विश्लेषण’’ है तथा मामलों में विलंब के कारणों में से एक ‘‘समय काटने के लिए क्लिक »-www.ibc24.in

Related Stories

No stories found.