बहू को अपने पति के माता-पिता के घर में रहने का अधिकार : सु्प्रीम कोर्ट
बहू को अपने पति के माता-पिता के घर में रहने का अधिकार : सु्प्रीम कोर्ट
देश

बहू को अपने पति के माता-पिता के घर में रहने का अधिकार : सु्प्रीम कोर्ट

news

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (हि.स.)। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए कहा है कि घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत बहू को अपने पति के माता-पिता के घर में रहने का अधिकार है। जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय बेंच ने तरुण बत्रा मामले में दो जजों की बेंच के उलट आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने 151 पेजों के अपने फैसले में ये आदेश जारी किया है। इससे पहले तरुण बत्रा केस में दो जजों की बेंच ने कहा था कि कानूनन बहू, अपने पति के माता-पिता के स्वामित्व वाली संपत्ति में नहीं रह सकती है। गुरुवार को तीन सदस्यीय बेंच ने इस केस की सुनवाई करते हुए तरुण बत्रा के फैसले को पलट दिया है। कोर्ट ने कहा कि परिवार की साझा संपत्ति और रिहायशी घर में भी घरेलू हिंसा की शिकार पत्नी को हक मिलेगा। कोर्ट ने साफ किया कि पीड़ित पत्नी को अपने ससुराल की पैतृक और साझा घर में रहने का कानूनी अधिकार होगा। उसे अपने पति की अर्जित की हुई संपत्ति यानि अलग से बनाए हुए घर पर भी अधिकार होगा। हिन्दुस्थान समाचार/ संजय/ वीरेन्द्र/सुनीत-hindusthansamachar.in