बंगाल के लोग ममता से मुक्ति चाहते हैं : अमित शाह
बंगाल के लोग ममता से मुक्ति चाहते हैं : अमित शाह
देश

बंगाल के लोग ममता से मुक्ति चाहते हैं : अमित शाह

news

-बोलपुर में अमित शाह के रोड शो में लोगों का उमड़ा जनसैलाब ओम प्रकाश कोलकाता, 20 दिसम्बर (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के गढ़ कहे जाने वाले बीरभूम जिले के बोलपुर में रविवार को रोड शो किया। खास बात यह रही कि अमित शाह के रोड शो में लोगों का जनसैलाब उमड़ पड़ा। शाह के साथ बंगाल के कद्दावर नेता शुभेंदु अधिकारी, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष, केंद्रीय प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय जैसे वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। यहां अमित शाह के रोड शो में कम से कम एक किलोमीटर दूर तक लोगों की भारी भीड़ नजर आ रही थी। इससे गदगद शाह ने पश्चिम बंगाल से एक बार फिर ममता बनर्जी की सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि बंगाल के लोग ममता बनर्जी से मुक्ति चाहते हैं। शाह ने कहा कि ममता ने बंगाल में घुसपैठियों को ना केवल संरक्षण दिया है बल्कि बंगाल की मूल आबादी को भी बदल रही हैं। लोग इससे परेशान हैं और किसी भी तरह से ममता बनर्जी को सत्ता से हटाना चाहते हैं। शाह ने कहा कि मैं लोगों की इतनी भारी भीड़ देखकर चकित हूं। आज के पहले मैंने किसी भी रैली में इतनी भारी भीड़ नहीं देखी थी। यह इस बात का संकेत है कि बंगाल में भाजपा की सरकार बनने वाली है। अमित शाह ने कहा कि इतनी भारी भीड़ इस बात का संकेत है कि बंगाल के लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्यार करते हैं। यहां हिंसा की संस्कृति बंद करने के लिए परिवर्तन जरूरी है। भाजपा की सरकार आएगी तो यहां तोला बाजी बंद होगी। भतीजे ( मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी) की रंगदारी बंद होगी। उल्लेखनीय है कि इस रोड शो से पहले अमित शाह ने विश्व भारती विश्वविद्यालय में गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया है। इसके साथ ही उन्होंने विश्वविद्यालय में छात्रों को भी संबोधित किया। अमित शाह ने कहा कि बंगाल धनी सभ्यता और संस्कृति का राज्य रहा है लेकिन वर्तमान में यहां हिंसा की संस्कृति घर कर गई है। इससे निजात दिलाने में छात्रों की भूमिका बहुत बड़ी है। सबको एकजुट होकर ममता बनर्जी के कुशासन के खिलाफ काम करना होगा। इसके बाद शाह बाउल लोक कलाकार वासुदेव दास के घर पहुंचे और वहां पर भोजन किया। हिन्दुस्थान समाचार-hindusthansamachar.in