प्रेम और सौंदर्य के ग्रह शुक्र पर सक्रिय है 37 ज्वालामुखी
प्रेम और सौंदर्य के ग्रह शुक्र पर सक्रिय है 37 ज्वालामुखी
देश

प्रेम और सौंदर्य के ग्रह शुक्र पर सक्रिय है 37 ज्वालामुखी

news

रायपुर,23 जुलाई (हि.स.)। इन दिनों अंतरिक्ष की कई घटनाएं वैज्ञानिकों के लिए आश्चर्य एवं चिंता का विषय बनी हुई है। एक और एक एस्ट्रॉयड तेजी से पृथ्वी की ओर बढ़ रहा है, दूसरी ओर एक धूमकेतु आकर्षण का केंद्र बनने जा रहा है। वहीं धरती से 27.5 करोड़ प्रकाश वर्ष दूर एक ब्लैक होल खगोलविदो का आकर्षण का केंद्र बना हुआ है, जिसकी चमक गायब होकर फिर वापस आ गई। इसे वैज्ञानिकों ने ब्लैक होल का पलक झपकना कहा है। धरती के करीबी ग्रह शुक्र पर लगातार फट रहे 37 ज्वालामुखियों को लेकर भी वैज्ञानिक आश्चर्यचकित है। अमेरिका के यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड के वैज्ञानिकों ने हाल ही में पता लगाया है कि शुक्र ग्रह पर 37 ज्वालामुखी हैं जिन में विस्फोट हुआ है। थोड़े-थोड़े अंतर पर यह अभी भी फट रहे हैं ,जिसकी वजह से शुक्र ग्रह पर बेहद गहरे और बड़े गोल घेरे बन गए हैं। शुक्र ग्रह के दक्षिणी गोलार्ध पर स्थित इन ज्वालामुखियों से गरम गैस निकल रही है और लावा बह रहा है। वैज्ञानिकों ने 3D मॉडल्स के जरिए यह पता लगाया है कि इनकी उत्पत्ति हाल ही में हुई है। मैरीलैंड के प्रोफेसर लॉरेंट मांटेसी के अनुसार यह ज्वालामुखी एक अंगूठी के आकार के हैं ,जोकि शुक्र के क्रस्ट एरिया से बाहर आए हैं। नेचर जियोसाइंस में प्रकाशित एक शोध के अनुसार शुक्र ग्रह की टेक्टोनिक प्लेट शांत नहीं हुई है वहां अभी भी भूकंप आ रहे हैं। पहले यह माना जाता था कि शुक्र ग्रह की टेक्टोनिक प्लेट्स शांत है। चंद्रमा के बाद आकाश के सबसे चमकीले और पृथ्वी का निकटतम ग्रह शुक्र ही है। आकार व द्रव्यमान में पृथ्वी के समान होने के कारण इसे पृथ्वी की बहन भी कहा जाता है। हिन्दुस्थान समाचार/केशव-hindusthansamachar.in