नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट : फिल्म सिटी, टॉय सिटी और मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी से पश्चिमी उत्तर प्रदेश बनेगा विकसित
नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट : फिल्म सिटी, टॉय सिटी और मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी से पश्चिमी उत्तर प्रदेश बनेगा विकसित
देश

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट : फिल्म सिटी, टॉय सिटी और मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी से पश्चिमी उत्तर प्रदेश बनेगा विकसित

news

नोएडा, 07 अक्टूबर (हि.स.)। एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट गौतमबुद्ध नगर जिले के जेवर में बनने जा रहा है। इसका निर्माण स्विस कंपनी ज्यूरिख इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड एजी करने वाली है। इसके लिए नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नियाल) के मुख्य कार्यपालक अधिकारी और ज्यूरिख इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड एजी के बीच बुधवार को एग्रीमेंट साइन किया गया है। इस पर दोनों संस्थाओं के मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने हस्ताक्षर किया। इसके अलावा जिला गौतमबुद्ध नगर में फिल्म सिटी और टॉय सिटी भी बनने वाली है। नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नियाल) के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि गौतमबुद्ध नगर में जेवर एयरपोर्ट के साथ ही साथ फिल्म सिटी बनने वाली है। इसके अलावा टॉय सिटी भी बनने की योजना है। इस से जिला गौतमबुद्ध के साथ साथ पूरे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र को लाभ मिलेगा। एयरपोर्ट से तो पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश को लाभ होगा। अभी पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों को हवाई जहाज पकड़ने के लिए दिल्ली जाना पड़ता हैं, जो कि बहुत परेशानी भरा होता है और बहुत महंगा भी पड़ जाता है। अरूणवीर सिंह ने कहा कि जिले में मेट्रो कोच बनाने की फैक्ट्री, अपैरल पार्क, हैंडीक्राफ्ट पार्क, एमएसएमई पार्क, मेडिकल डिवाइस पार्क भी बनेगा। यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में सैकड़ों देसी-विदेशी कंपनियों ने जमीन आवंटन करा लिया है। मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी से जेवर से दिल्ली जाना होगा आसान जेवर से दिल्ली और अन्य शहरों के लिए मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी विकसित की जाएगी। मेट्रो, अल्ट्रा पीआरटी, एलिवेटेड रोड, रेपिड रेल समेत कई विकल्पों पर काम चल रहा है। नियाल के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने जानकारी दी कि जेवर में एयरपोर्ट आने से यहां करीब 5 लाख करोड़ रुपये का निवेश होगा। अब भारतीय विमानों का मेंटीनेंस भी यहीं होगा यहां पर एमआरओ (विमानों का मेंटीनेंस, रिपेयरिंग व ओवरहालिंग) हब विकसित किया जाएगा। साथ ही एयर कार्गो व वेयर हाउसिंग हब बनाया जाएगा। इन योजनाओं से ना केवल रोजगार मिलेगा बल्कि करोड़ों रुपये का निवेश भी आएगा। हिन्दुस्थान समाचार/आदित्य/ रामानुज-hindusthansamachar.in