धनंजय सिंह और लकी यादव ने भरा पर्चा, मल्हनी संग्राम तेज
धनंजय सिंह और लकी यादव ने भरा पर्चा, मल्हनी संग्राम तेज
देश

धनंजय सिंह और लकी यादव ने भरा पर्चा, मल्हनी संग्राम तेज

news

जौनपुर, 14 अक्टूबर (हि.स.)। मल्हनी उपचुनाव के लिए बुधवार को सपा प्रत्याशी लकी यादव और निर्दल प्रत्याशी के रूप में पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने पर्चा भरा। दोनों प्रत्याशियों ने कोविड-19 का पालन करते हुए भीड़भाड़ एकत्रित नहीं किया। दोनों दिग्गजों का नामाकंन पत्र दाखिल होते ही मल्हनी का महासंग्राम और तेज हो गया है। मीडिया से बातचीत में दोनो प्रत्याशियों ने भारी बहुमत से जीत दर्ज करने का दावा किया। उल्लेखनीय है कि इस सीट का नाम पहले रारी था। 2002 विधानसभा चुनाव से लेकर 2012 तक धनंजय सिंह व उनके पिता काबिज रहे। 2012 में इसका नाम बदलकर मल्हनी कर दिया गया। उसके बाद इस सीट पर सपा के पारसनाथ यादव अपने पार्टी का परचम लहराने लगे। निर्दल प्रत्याशी के रूप में धनंजय सिंह दूसरे स्थान पर पहुंच गये। पारसनाथ के निधन के बाद खाली हुई इस सीट पर तीन नवंबर को उप चुनाव हो रहा है। इस बार सपा ने स्व. पारसनाथ यादव के पुत्र लकी यादव को मैदान में उतारा है। उधर धनंजय सिंह इस चुनाव में निर्दलीय चुनाव मैदान में ताल ठोंक रहे हैं। बुधवार को सबसे पहले सपा प्रत्याशी ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर पर्चा दाखिल किया। नामाकंन के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि हम अपने पिता द्वारा शुरू कराये कार्यों को पूरा करेगें तथा पिताजी के सपनो का साकार करेंगे। पिताजी ने दो पुलो का निर्माण कराया, मेडिकल कालेज की स्थापना उन्ही के प्रयास से हुआ। उसके बाद धनंजय सिंह ने पर्चा भरा। धनंजय ने कहा कि इस सीट पर मैं और मेरे पिताजी विधायक रहे। मेरे कार्यकाल में विकास को गति दिया गया। पुलों का निर्माण हुआ, सड़के बनवायी गयी, पेय जल, बिजली समेत अन्य विकास कार्य कराया गया। पिछले आठ वर्षो से यहां के विधायक पारसनाथ सरकार में मंत्री रहने के बाद भी कोई कार्य नहीं किया। मेरे संसदीय कार्यकाल में जौनपुर में रेलवे क्रासिंगों पर ओवर ब्रिज का निर्माण शुरू कराया गया था लेकिन मेरे बाद चुने गये भाजपा सांसद ने कोई कार्य नहीं किया। जिसके कारण आज ओवरब्रिज अधर में लटका हुआ है। इस बार मुझे मल्हनी की जनता चुनाव लड़वा रही है। मैं भारी बहुमत से जीतकर मल्हनी की सेवा करूंगा। हिन्दुस्थान समाचार/विश्व प्रकाश/विद्या कान्त-hindusthansamachar.in