दिल्ली-हिंसा-दंगों-से-अपाहिज-हुई-जिंदगी-किसी-ने-गंवाई-आंखें-तो-किसी-को-गंवाने-पड़े-हाथ
दिल्ली-हिंसा-दंगों-से-अपाहिज-हुई-जिंदगी-किसी-ने-गंवाई-आंखें-तो-किसी-को-गंवाने-पड़े-हाथ
देश

दिल्ली हिंसा: दंगों से अपाहिज हुई जिंदगी , किसी ने गंवाई आंखें तो किसी को गंवाने पड़े हाथ

news

नयी दिल्ली। उत्तर पूर्वी दिल्ली के शिव विहार में रहने वाले मोहम्मद वकील की उनके घर के नीचे ही परचून की दुकान थी। इस दुकान से रोजाना होने वाली लगभग 200 से 300 रुपये की आमदनी से उनके सात सदस्यीय परिवार का गुजारा आराम से चल रहा था। लेकिन पिछले क्लिक »-www.prabhasakshi.com