दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों पर हाईकोर्ट ने जताई नाराजगी
दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों पर हाईकोर्ट ने जताई नाराजगी
देश

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों पर हाईकोर्ट ने जताई नाराजगी

news

कोर्ट ने दिल्ली नगर निगम के कर्मियों को सैलरी न देने के मामले में केन्द्र व राज्य सरकार को फटकारा नई दिल्ली, 05 नवम्बर (हि.स.)। दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों पर हाईकोर्ट ने नाराजगी जताते हुए कहा कि दिल्ली जल्द ही देश की कोरोना राजधानी बन सकती है। जस्टिस हीमा कोहली की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि कोरोना दिल्ली सरकार पर पूरी तरह से हावी हो चुका है। कोर्ट ने ये टिप्पणी उत्तरी दिल्ली नगर निगम के शिक्षकों, डॉक्टरों, रिटायर्ड इंजीनियर्स और सफाईकर्मियों की बकाया सैलरी देने के मामले पर सुनवाई के दौरान की। गुरुवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि दिल्ली सरकार की ओर से उठाए गए कदम पूरी तरह विफल साबित हो रहे हैं। हम इस मामले पर अलग से विचार करेंगे। कोर्ट ने बकाया सैलरी के मामले को लटकाए रखने के लिए केंद्र और दिल्ली सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि त्योहारों का मौसम है, कर्मचारियों को अपने परिवारों को देखना है। कोर्ट ने कहा कि नगर निगम के कर्मचारियों को अपने परिवार की मूलभूत जरुरतों को पूरा करने के लिए भी परेशान होना पड़ रहा है। पैसों की कमी सब जगह है, लेकिन इस वजह से इन लोगों को उनकी मूलभूत जरूरतों से वंचित नहीं रखा जा सकता है। कोर्ट ने पूछा कि उसके आदेश के बावजूद इस समस्या के समाधान के लिए बुलाई गई बैठक में केंद्र की ओर से क्यों कोई शामिल नहीं हुआ। कोर्ट ने तीनों नगर निगमों और दिल्ली सरकार को निर्देश दिया कि वो सैलरी के लिए फंड को रिलीज करने के मामले पर ताजा स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करें। कोर्ट ने 16 दिसम्बर तक स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया। पिछले 29 सितम्बर को सुनवाई के दौरान उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने कोर्ट को बताया था कि उसने सितम्बर महीने की शुरुआत में ही शिक्षकों की जून महीने की सैलरी जारी कर दी थी। उसके बाद कोर्ट ने बाकी महीने की सैलरी भी जारी करने का आदेश दिया था। सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार ने कोर्ट को बताया कि उसने सितम्बर और अक्टूबर की शिक्षकों की सैलरी देने के लिए पिछले 3 सितम्बर को ही उत्तरी दिल्ली नगर निगम को 98 करोड़ 35 लाख रुपये जारी कर दिए थे। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/सुनीत-hindusthansamachar.in