थैलेसीमिया के मरीजों के लिए ‘थैलेसीमिया बाल सेवा योजना’ के दूसरे चरण की शुरुआत
थैलेसीमिया के मरीजों के लिए ‘थैलेसीमिया बाल सेवा योजना’ के दूसरे चरण की शुरुआत
देश

थैलेसीमिया के मरीजों के लिए ‘थैलेसीमिया बाल सेवा योजना’ के दूसरे चरण की शुरुआत

news

थैलेसीमिया के मरीजों के लिए ‘थैलेसीमिया बाल सेवा योजना’ के दूसरे चरण की शुरुआत -200 अप्लास्टिक एनीमिया रोगियों को दी जाएगी सहायता नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (हि.स.)। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने बुधवार को अपने कार्यालय से वर्चुअल माध्यम से वंचित थैलेसीमिया रोगियों के लिए ‘थैलेसीमिया बाल सेवा योजना’ के दूसरे चरण की शुरुआत की। इस योजना को 2017 में शुरू किया गया था। यह योजना कोल इंडिया के सीएसआर कोष से चलाई जा रही हिमाटोपोइएटिक स्टेम सेल प्रत्यारोपण कार्यक्रम है, जिसका उद्देश्य थैलीसीमिया और सिकल सेल मरीजों को एक बार के उपचार का अवसर प्रदान करना है, जिनके पास अपने परिवार में दानकर्ता हैं। सीएसआर पहल का लक्ष्य प्रत्येक एचएससीटी के लिए 10 लाख रुपये तक की लागत के पैकेज के तहत कुल 200 रोगियों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है। इस मौके पर डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि विभिन्न हिमोग्लोबिनोपैथिज के शांत संवाहकों के डेटा से पता चलता है कि बी-थैलेसीमिया के लिए 2.9-4.6 प्रतिशत है, जबकि विशेष रूप से जनजातीय जनसंख्या में सिकल सेल एनीमिया के लिए यह 40 प्रतिशत है। हिमोग्लोबिन के विभिन्न प्रकार एचबीई पूर्वी भारत में आम हो सकते हैं, क्योंकि 3-50 प्रतिशत के बीच मामलों में इन बीमारियों के लिए अधिक ध्यान केन्द्रित किए जाने की आवश्यकता है। उन्होंने सीएमसी लुधियाना और नारायण हृदयालय बैंग्लुरु की सराहना की, जो इन उन्नत देखभाल थेरेपी 2020 से प्रदान करने को सहमत हुए हैं। डॉ. हर्ष वर्धन ने कोल इंडिया और इसकी सीएसआर टीम के प्रति गरीबी रेखा से नीचे के हेमाटोलोजिकल विकारों से ग्रस्त रोगियों और उन्हें 2020 से अगले दो वर्ष तक सहायता देने के अवसर के लिए आभार व्यक्त किया। डॉ. हर्ष वर्धन ने भारत में स्वास्थ्य सेवाओं पर अधिक व्यय होने का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि लोग पारिवारिक भूमि और संपत्ति बेचकर अपना उपचार कराते हैं। इसी दर्द को महसूस कर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने लक्षित जनसंख्या के लिए आयुष्मान भारत – प्रधानमंत्री जन-आरोग्य योजना की शुरुआत की थी। उन्होंने कहा कि हम इस योजना के लाभार्थियों से मिले हैं और उन्होंने अपने जीवन के कष्ट काल में बहुमूल्य मदद मिलने पर आभार के आंसू के जरिए अपनी भावनाओं की अभिव्यक्ति की थी। डॉ. हर्ष वर्धन ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि इस योजना के अंतर्गत अप्लास्टिक एनीमिया के कुल 200 रोगियों को इस वर्ष कवर किया गया है। ऐसे मामलों को आयुष्मान भारत – आरोग्य केन्द्रों के नेटवर्क में परामर्श के माध्यम से रोका जा सकता है। हमने देश के प्रत्येक जिला अस्पताल में रक्त संचारण सुविधा उपलब्ध कराई है, जबकि कुछ जिलों में यह सुविधा ब्लॉक स्तर पर भी उपलब्ध है। हिन्दुस्थान समाचार/विजयलक्ष्मी-hindusthansamachar.in