जहरीली शराब से पंजाब के इस गांव में एक दिन में 6 की मौत, ग्रामीणों में हड़कंप
जहरीली शराब से पंजाब के इस गांव में एक दिन में 6 की मौत, ग्रामीणों में हड़कंप
देश

जहरीली शराब से पंजाब के इस गांव में एक दिन में 6 की मौत, ग्रामीणों में हड़कंप

news

पंजाब में जहरीली शराब ने दो गांवों में हड़कंप मचा दिया है. पिछले 24 घंटों में जहरीली शराब पीने से 7 लोगों की मौत हो गई है. अमृतसर ज़िले के मुच्छल गांव में शराब के सेवन के बाद 6 लोगों की जान चली गई जबकि 2 किलोमीटर दूरी पर स्थित तंग्रा गांव में 1 व्यक्ति की मौत हो गई. एक दिन में 7 मौतों ने गांववालों और प्रशासनिक महकमे में हड़कंप मचा दिया है. अब इन मौतों की जांच के लिए चार सदस्यीय SIT का गठन किया गया है. अमृतसर एसएसपी विक्रमजीत दुग्गल ने मौतों की पुष्टि करते हुए ये जानकारी दी. उधर गुरुवार देर शाम आईपीसी की धारा 304 के तहत मामला दर्ज किया गया और एक महिला बलविंदर कौर को गांव में अवैध शराब बेचने के संदेह में गिरफ्तार किया गया है. SAD के स्थानीय नेता बलबीर सिंह ने कहा, “गांव में सभी जानते थे कि बलविंदर कौर अवैध शराब बेच रही थी. लेकिन पुलिस और सरकार को इसकी जानकारी कैसे नहीं मिली ? उसका पति भी वही शराब पीता था, जो वह दूसरों को बेचती थी. उन्हें अब एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बता दें, बलविंदर कौर का पति उन तीन व्यक्तियों में शामिल हैं, जिनका अवैध शराब के सेवन के बाद इलाज चल रहा है. पुलिस अभी तक उनके बयान दर्ज नहीं कर सकी है. वहीं मुच्छल गाँव की सरपंच के पति बलजीत सिंह और कांग्रेस नेता राजवंत कौर ने कहा, “हमारे गांव में नशीली दवाओं की गंभीर समस्या है. हमारे गांव में शराब के अलावा मादक पदार्थ भी उपलब्ध हैं. हमने इस बारे में कई शिकायतें की हैं. SAD-BJP सरकार के दौरान भी यह समस्या थी. अब हमारी सरकार के समय ये समस्या दोगुनी हो गई है. इन मौतों की उचित जांच होनी चाहिए.” उन्होंने आगे कहा कि गुरुवार शाम को रिपोर्ट की गई दो मौतों का पोस्टमार्टम किया जाना चाहिए. हालांकि अन्य शवों का पहले ही अंतिम संस्कार कर दिया गया है. बता दें, 7 में पांच मौतें गुरुवार सुबह ही हो गई थी. इन पांचों मृतकों की पहचान मंगल सिंह (60), बलविंदर सिंह (65), दलबीर सिंह (75), कुलदीप सिंह (24), मुछल के बलदेव सिंह (35) और तंग्रा के बलदेव सिंह के रूप में हुई है. गांववालों ने बिना पोस्टमॉर्टम कराए ही इनका अंतिम संस्कार कर दिया. पांच मौतों के बाद SHO बिक्रमजीत सिंह ने कहा, “यह सत्यापित नहीं किया गया है कि वे जिस शराब का सेवन करते हैं, उसकी वजह से उनकी मृत्यु हुई. कुछ राजनीतिक लोग ऐसे दावा करते रहे हैं कि शराब का सेवन करने के कारण उनकी मृत्यु हुई. लेकिन इन मौतों का शराब सेवन से कोई संबंध नहीं है. ये अलग-अलग घटनाएं हैं और मौतों के पीछे कारण भी अलग हैं.” लेकिन गुरुवार शाम को दो और मौतें होने के बाद एसएचओ बिक्रमजीत सिंह को निलंबित कर दिया गया और जांच के आदेश दे दिए गए.-newsindialive.in