जम्मू-कश्मीर की भाषा और संस्कृति को मजबूत करेगा लोकसभा में पास विधेयक: अमित शाह
जम्मू-कश्मीर की भाषा और संस्कृति को मजबूत करेगा लोकसभा में पास विधेयक: अमित शाह
देश

जम्मू-कश्मीर की भाषा और संस्कृति को मजबूत करेगा लोकसभा में पास विधेयक: अमित शाह

news

- अब कश्मीरी, डोगरी, हिंदी, उर्दू और अंग्रेजी जम्मू-कश्मीर की आधिकारिक भाषाएं होंगी नई दिल्ली, 22 सितम्बर (हि.स.)। केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर आधिकारिक भाषा (संशोधन) विधेयक पारित होने पर प्रसन्नता व्यक्त की। लोकसभा में विधेयक पारित हो जाने के बाद अब कश्मीरी, डोगरी, उर्दू, हिंदी और अंग्रेजी अब जम्मू-कश्मीर की आधिकारिक भाषाएं होगी। अमित शाह ने इस पर ट्वीट कर कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए एक अत्यंत महत्वपूर्ण दिन है। गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि इस ऐतिहासिक विधेयक से जम्मू और कश्मीर के लोगों का लंबे समय से प्रतीक्षित सपना सच हो गया है। यह विधेयक जम्मू-कश्मीर की संस्कृति को पुनर्स्थापित करने के लिए लाया गया है। यह कदम जम्मू-कश्मीर के सर्वांगीण विकास के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कटिबद्धता को दर्शता है। इसके लिए मैं उनका आभार व्यक्त करता हूं। गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर के बहनों और भाइयों को विश्वास दिलाता हूं कि मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर के गौरव को वापस लाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। इस अभूतपूर्व विधेयक के माध्यम से ‘गोजरी’, ‘पहाड़ी’ और ‘पंजाबी’ जैसी प्रमुख क्षेत्रीय भाषाओं के विकास के लिए विशेष प्रयास किया जाना भी प्रस्तावित है। साथ ही इस विधेयक से जम्मू कश्मीर की कला, संस्कृति तथा भाषा जैसे अन्य वर्तमान संस्थागत ढाँचे को सुदृढ़ किया जा सकेगा। हिन्दुस्थान समाचार/जितेन/सुनीत-hindusthansamachar.in