जब तक वैक्सीन नहीं, तब तक सोशल वैक्सीन ही कारगर: डॉ. हर्ष वर्धन
जब तक वैक्सीन नहीं, तब तक सोशल वैक्सीन ही कारगर: डॉ. हर्ष वर्धन
देश

जब तक वैक्सीन नहीं, तब तक सोशल वैक्सीन ही कारगर: डॉ. हर्ष वर्धन

news

- विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग तथा सीएसआईआर के संस्थानों के निदेशकों को किया संबोधित नई दिल्ली, 16 अक्टूबर (हि.स.)। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने शुक्रवार को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग तथा सीएसआईआर के देश भर में फैले 67 संस्थानों के निदेशकों को कोरोना से बचाव के उपायों पर वर्चुअल रूप से संबोधित किया। डॉ. हर्ष वर्धन ने इस मौके पर कहा कि वर्तमान में अनलॉक-5 के अंतर्गत देश की अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए कई गतिविधियां फिर से शुरू की गई हैं। इसका अर्थ यह नहीं कि जनता सावधानियों को भुला दे। डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि हम विश्व के विकासशील और संपन्न देशों के मुकाबले बेहतर स्थिति में हैं। देश की रिकवरी दर सबसे अधिक 87-88 प्रतिशत है, जबकि मृत्यु दर 1.52 प्रतिशत न्यूनतम है। कोरोना के खिलाफ लड़ाई न तो कठिन है और न असंभव। इसे हराने के लिए सही तरीके से मास्क पहनना, मास्क से मुंह और नाक ढकना, बात करते हुए भी मास्क नहीं उतारना, आपस में दो गज की दूरी रखना और बार-बार साबुन और पानी से हाथ धोना जरूरी है। ये साधारण उपाय हमारे लिए सोशल वैक्सीन है, जो हमें घातक कोरोना से बचा सकते हैं, हमारी जान की रक्षा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले दो-तीन महीने महत्वपूर्ण हैं, सर्दियों के महीनों में श्वसन से जुड़ी बीमारियां लोगों को परेशान कर सकती हैं। त्योहारों के मौसम में लोगों की सलाह दी जानी चाहिए कि वे घर में त्योहार मनाएं और भीड़भाड़ से बचें। हिन्दुस्थान समाचार/विजयलक्ष्मी/सुनीत-hindusthansamachar.in