गोविंदघाट से 8वें दिन 200 श्रद्धालु रवाना हुए हेमकुंड साहिब
गोविंदघाट से 8वें दिन 200 श्रद्धालु रवाना हुए हेमकुंड साहिब
देश

गोविंदघाट से 8वें दिन 200 श्रद्धालु रवाना हुए हेमकुंड साहिब

news

जोशीमठ, 11 सितम्बर (हि.स.)। हेमकुंड साहिब-लोकपाल की यात्रा में एक हफ्ते बाद थोड़ी तेजी आई है। शुक्रवार को 8वें दिन एक साथ करीब 200 श्रद्धालु गोविंदघाट से हेमकुंड साहिब रवाना हुए। अधिकांश श्रद्धालु उत्तरांखड के विभिन्न जनपदों के है। आठ दिनों में कुल 623 श्रद्धालु हेमकुंड सहिब पंहुचे हैं। सिखों के पवित्र धाम हेमकुंड साहिब को राज्य के पांचवे धाम के नाम से भी जाना जाता है। इस साल चार सितम्बर को कपाट खुलने के बाद श्रद्धालुओ के पंहुचने का क्रम निरंतर जारी है। हालांकि कोरोना महामारी के कारण यह संख्या अन्य वर्षो की अपेक्षा बेहद कम है लेकिन श्रद्धालु कोविड-19 की विभिन्न व जटिल प्रक्रियाओं से गुजर कर भी पूरी आस्था के साथ हेमकुंड सहिब मे मत्था टेकने पंहुचे रहे है। कोरोना जैसी महामारी का असर इस वर्ष अन्य धामों के साथ ही हेमकुंड साहिब पर देखा गया है। अमूमन मई के अंतिम सप्ताह अथवा जून माह के पहले सप्ताह को खुलने वाले हेमकुंड साहिब के कपाट इस वर्ष सितम्बर महीने की 4 तारीख को खुल सके। पहले दिन मात्र 125 श्रद्धालु ही हेमकुंड साहिब पंहुच सके थे जबकि शुक्रवार को आठ दिनों में पहली बार श्रद्धालुओं की संख्या 200 तक पंहुची। हालांकि इन यात्रियों मे काशीपुर, सितारगंज और हल्द्वानी के श्रद्धालुओं की संख्या ज्यादा है लेकिन आठ दिनों मे पहली बार एकसाथ 200 श्रद्धालुओं की भीड देखकर गुरुद्वारा प्रबंन्धक कमेटी व यात्रा मार्ग के ब्यवसासियों के चेहरों की रौनक लौट आई है। उन्हें उम्मीद है कि यदि मौसम ने साथ दिया तो हेमकुंड साहिब के साथ ही विश्व धरोहर फूलों की घाटी में भी पर्यटक पंहुचेंगे। हेमकुंड साहिब मैनेजमेंट ट्रस्ट के मुख्य प्रबंधक सरदार सेवा सिंह के अनुसार हेमकुंड साहिब के प्रकाशोत्सव 4 सितम्बर के बाद इन आठ दिनों मे 623 श्रद्धालु हेमकुंड साहिब पंहुच चुके हैं। लगातार विभिन्न प्रदेशों से श्रद्धालुओं की फोन कॉल्स भी आ रही हैं। उन्होंने कहा कि गुरुद्वारा प्रंबधन द्वारा गोविंदघाट, गोविंदधाम-घांघरिया तथा हेमकुंड साहिब गुरुद्वारों को नियमित सेनिटाइज किया जा रहा है। आवासीय कक्षो को प्रतिदिन सेनिटाइज करने के साथ ही श्रद्धालुओ के दर्शनों मे भी कोविड-19 की गाइडलाइन का अक्षरशः पालन किया जा रहा है। सेवा सिंह ने बताया कि गोविंदघाट पुल पर प्रशासन की ओर से चिकित्साधिकारी के साथ ही अध्यापकों की तैनाती की गई है। जो कोरोना रिपोर्ट जांच के साथ ही हेमकुंड साहिब जाने वाले श्रद्धालुओ की काउन्टिंग कर रहे हैं। घांघरिया के होटल व्यवसायी दिनेश सिंह झिंक्वाण ने कहा कि कपाट खुलने के बाद शुक्रवार को सबसे ज्यादा श्रद्धालु और पर्यटक घांघरिया मे देखे गए। हेमकुंड साहिब पंहुचने वाले श्रद्धालुओं के साथ ही यूथ हाॅस्टल ग्रुप के 22 सदस्य भी घांघरिया पंहुचे हैं, जो हेमकुंड साहिब के साथ ही फूलों की घाटी की सैर भी करेंगे। हिन्दुस्थान समाचार/प्रकाश कपरूवाण-hindusthansamachar.in