गडकरी ने त्रिपुरा में 2 हजार 752 करोड़ की 9 परियोजनाओं का किया शिलान्यास
गडकरी ने त्रिपुरा में 2 हजार 752 करोड़ की 9 परियोजनाओं का किया शिलान्यास
देश

गडकरी ने त्रिपुरा में 2 हजार 752 करोड़ की 9 परियोजनाओं का किया शिलान्यास

news

नई दिल्ली, 27 अक्टूबर (हि.स.)। केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को वर्चुअल माध्यम से त्रिपुरा में 2 हजार 752 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बनने वाली नौ राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का शिलान्यास किया। केंद्रीय मंत्री गडकरी ने इस मौके पर कहा कि 262 किलोमीटर लंबाई वाली सड़क परियोजनाएं व्यापार और पर्यटन को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी। उन्होंने कहा कि इससे उत्तर पूर्व में कनेक्टिविटी को बढ़ावा मिलेगा। यह लॉजिस्टिक लागत को कम करके लोगों के जीवन में भी सुधार लाएगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में नॉर्थ ईस्ट पहले से अधिक तेजी से विकसित हो रहा है। गडकरी ने कहा, त्रिपुरा में राष्ट्रीय राजमार्गों में पिछले छह वर्षों में लगभग 300 किलोमीटर की वृद्धि हुई है। राज्य में राष्ट्रीय राजमार्ग की लम्बाई आज 850 किलोमीटर से अधिक है। उन्होंने बताया कि त्रिपुरा में 8 हजार करोड़ रुपये की सड़कों का निर्माण किया जा रहा है और 2015 से 2020 के बीच राज्य में भूमि अधिग्रहण लागत के लिए 365 करोड़ रुपये का वितरण किया गया है। उन्होंने कहा, एनएच के उन्नयन और विकास से जिले और प्रमुख शहर सभी के लिए कनेक्टिविटी में सुधार होगा। इस मौके पर केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह और जनरल (सेवानिवृत्त) डॉ. वी.के. सिंह, राज्य के मंत्री, संसद के सदस्य, विधायक और केंद्र और राज्य के वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने की। वी.के. सिंह ने कहा कि सरकार की एक्ट ईस्ट पॉलिसी के माध्यम से पिछले छह सालों में पूर्वोत्तर के साथ कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने के लिए काफी काम हुए हैं। इसमें त्रिपुरा महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। त्रिपुरा के रास्ते बांग्लादेश और चितगांव बंदरगाह होते हुए दक्षिण पूर्व एशिया तक अपनी वस्तुओं को पहुंचाया जा सकता है। परियोजना पूरी होने पर अंतर-राज्यीय और बांग्लादेश तक तेज और परेशानी मुक्त संपर्क मिल सकेगा और राज्य के पर्यटन क्षेत्र को मजबूत करने की दिशा में एक प्रमुख प्रगति होगी। नई परियोजनाएं पूरे राज्य में विभिन्न पर्यटन स्थलों, ऐतिहासिक स्थानों और धार्मिक स्थलों को यातायात का बेहतर संपर्क, तेज और सुरक्षित आवाजाही प्रदान करेगी। इससे क्षेत्र के अकुशल, अर्ध-कुशल और कुशल श्रमशक्ति के लिए बड़ी संख्या में रोजगार और स्वरोजगार के अवसर पैदा करने की संभावना है। परियोजनाओं से वाहनों की यात्रा के समय और रख-रखाव लागत और ईंधन की खपत में कमी आएगी। परियोजना के कार्यान्वयन से इलाके की सामाजिक-आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। ये कृषि वस्तुओं के परिवहन में सुधार करेंगे और अधिक से अधिक बाजारों तक पहुंच बनाएंगे, जिससे माल और सेवाओं की लागत कम होगी। ये स्वास्थ्य देखभाल और आपातकालीन सेवाओं के लिए आसान और त्वरित पहुंच भी बनाएंगे। संक्षेप में, उपरोक्त परियोजनाओं के पूरा होने के बाद यह इस क्षेत्र के पर्यटन, आर्थिक और अंतर्राष्ट्रीय संपर्क के विकास में लंबी छलांग होगी। आखिरकार इससे त्रिपुरा राज्य की जीडीपी को गति मिलेगी। हिन्दुस्थान समाचार/सुशील/सुनीत-hindusthansamachar.in