खुद-को-दूसरों-से-बेहतर-साबित-करने-की-होड़-आज-की-सबसे-बड़ी-समस्या-है
खुद-को-दूसरों-से-बेहतर-साबित-करने-की-होड़-आज-की-सबसे-बड़ी-समस्या-है
देश

खुद को दूसरों से बेहतर साबित करने की होड़ आज की सबसे बड़ी समस्या है

news

जिन्दगी का एक लक्ष्य है- उद्देश्य के साथ जीना। सामाजिक स्वास्थ्य एवं आदर्श समाज व्यवस्था के लिए बहुत जरूरी होता है कर्तव्य-बोध और दायित्व-बोध। कर्तव्य और दायित्व की चेतना का जागरण जब होता है तभी व्यक्तिगत जीवन की आस्थाओं पर बेईमानी की परतें नहीं चढ़ पातीं। सामाजिक, पारिवारिक एवं व्यक्तिगत क्लिक »-www.prabhasakshi.com