कोरोना वायरस: राज्यसभा सांसद अभय भारद्वाज का ऑक्सीजन स्तर मे सुधार, ईसीएमओ प्रणाली के साथ इलाज शुरू
कोरोना वायरस: राज्यसभा सांसद अभय भारद्वाज का ऑक्सीजन स्तर मे सुधार, ईसीएमओ प्रणाली के साथ इलाज शुरू
देश

कोरोना वायरस: राज्यसभा सांसद अभय भारद्वाज का ऑक्सीजन स्तर मे सुधार, ईसीएमओ प्रणाली के साथ इलाज शुरू

news

राजकोट/अहमदाबाद, 16 सितम्बर (हि.स.)। राज्यसभा सांसद अभय भारद्वाज की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, फेफड़ों की समस्याओं के कारण कल डॉक्टरों की एक टीम को अहमदाबाद से बुलाया गया था। आज, अभय भारद्वाज के ऑक्सीजन स्तर में सुधार हुआ है। अभय भारद्वाज के भाई नितिन भारद्वाज ने कहा कि वर्तमान में ऑक्सीजन के स्तर में मामूली सुधार है। सूरत के डॉक्टर समीर गामी ने अपनी ईसीएमओ प्रणाली के साथ इलाज शुरू किया है। 8 दिनों तक फेफड़ों का इलाज किया जाएगा। देर रात सूरत के विधायक हर्ष संघवी भी सिविल अस्पताल पहुंचे। डॉक्टरों ने कहा कि ऑक्सीजन फेफड़ों में नहीं पहुंचती है, क्योंकि थक्के जम जाते हैं, इसलिए उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है और खून को पतला करने के लिए दवा दी गई है, लेकिन रक्त के थक्के को पिघलाने के लिए स्थिति में सुधार नहीं हुआ है और फेफड़ों में छिद्र हो गए हैं। अहमदाबाद से आई टीम ने भी कहा कि उन्हें ईसीएमओ सिस्टम से इलाज शुरू करना चाहिए क्योंकि उनकी सेहत गंभीर है। इसलिए देर रात फेफड़े के विशेषज्ञ डॉ॰ समीर गामी के चार्टर्ड विमान से राजकोट आने के बाद, ईसीएमओ प्रणाली से उपचार शुरू किया गया है। राज्यसभा सांसद अभय भारद्वाज कोरोना का 31 अगस्त से सिविल अस्पताल में इलाज चल रहा है और पिछले चार दिनों से वेंटिलेटर पर हैं। उनकी तबीयत बिगड़ने पर, मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने उनके लिए अहमदाबाद से उनके लिए डॉ॰तुषार पटेल, डॉ॰आनंद शुक्ल और डॉ॰ अमित पटेल की एक टीम के साथ कैबिनेट मंत्री भूपेंद्रसिंह चुडासमा को चार्टर्ड फ्लाइट से राजकोट भेजा और वे देर रात पहुंचे। डॉ पटेल ने सांसद के स्वास्थ्य बुलेटिन के हवाले से कहा, "वायरस अभय भारद्वाज के शरीर से बाहर निकल गया है, लेकिन वायरस को बेअसर करने के लिए सक्रिय प्रतिरक्षा प्रणाली, फेफड़ों में गांठ का कारण बनी है।" इससे फेफड़ों में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है और कार्बन डाइऑक्साइड बढ़ जाती है। श्वसन के लिए वेंटिलेटर पर रखा जाता है। रक्त को पतला करने वाली दवा दी गई थी, लेकिन यह भी एक दवा है जो बिना प्रभावित हुए दिल के दौरे में गांठ को भंग कर देती है। हिन्दुस्तान समाचार/हर्ष/पारस-hindusthansamachar.in