कोराना काल में उभर कर सामने आई सज्जन शक्ति: भागवत
कोराना काल में उभर कर सामने आई सज्जन शक्ति: भागवत
देश

कोराना काल में उभर कर सामने आई सज्जन शक्ति: भागवत

news

- सज्जन शक्ति से बराबर संपर्क रखें स्वयंसेवक : सर संघचालक कानपुर, 10 सितम्बर (हि.स.)। वैश्विक महामारी कोरोना काल में कानपुर प्रांत के स्वयंसेवकों का सराहनीय कार्य रहा और अपने दायित्वों को भली भांति निर्वहन किये। इसी कोरोना काल मंदिरों, मठों, गुरुद्वारों और सामाजिक संगठनों ने भी जिस प्रकार बेहतर कार्य किये उससे यह कहा जा सकता है कि समाज में सज्जन शक्ति उभरकर सामने आयी है। इन सज्जन शक्तियों से स्वयंसेवक बराबर संपर्क में रहें और कोरोना की जंग जीतने के लिए कार्य व विचारों का आदान प्रदान करें। यह बातें गुरुवार को कानपुर प्रांत के स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत ने कही। सर संघचालक मोहन भागवत बुधवार देर रात कानपुर पहुंचे और अपने दो दिवसीय प्रवास के अंर्तगत क्षेत्रीय संघ चालक बैरिस्टर वीरेन्द्रजीत सिंह के आवास पर गुरुवार को पहली बैठक ली। यहां पर उन्होंने लॉकडाउन के कालखण्ड में कानपुर प्रान्त में किये गये सेवाकार्य की जानकारी ली। प्रान्त के आकंड़े के साथ-साथ स्वयंसेवकों द्वारा व्यक्तिगत रुप से किए गए कई प्रेरणादाई कार्यों का उदाहरण भी कार्यकर्ताओं द्वारा दिया गया। सरसंघचालक ने सेवा कार्यों के दृष्टि से कानपुर प्रांत के कार्य की सराहना की। उन्होंने कहा कि संघ के अतिरिक्त समाज में कई सामाजिक संगठनों मठ, मंदिरों, गुरुद्वारों ने सेवा कार्य किए हैं। एक बहुत बड़ी सज्जन शक्ति समाज में उभर कर सामने आई है। संघ के कार्यकर्ताओं को ऐसी सज्जन शक्ति से संपर्क करना चाहिए। उन्होंने कहा लॉकडाउन के कालखंड का प्रभाव अभी भी है, प्रवासी मजदूरों के लिए रोजगार उपलब्ध कराने की दृष्टि से हमको काम करना है। उन्होंने कहा शहरी क्षेत्रों में श्रमिकों के लिए तथा ग्रामीण क्षेत्र में किसानों के लिए कार्य करना है। आत्मनिर्भरता का भाव समाज में उत्पन्न करना है। उन्होंने कहा कि स्वयंसेवकों को यह स्मरण रहना चाहिए कि हमने यह कार्य प्रचार के लिए नहीं बल्कि अपना दायित्व समझकर समाज के लिए किया है। उन्होंने कानपुर प्रांत में सेवा के साथ-साथ समाज में संस्कार उत्पन्न करने के लिए किये गए तीन कार्यक्रमों- बुद्ध पूर्णिमा पर उपवास, कुटुंब प्रबोधन की दृष्टि से परिवारजन का एक साथ भोजन तथा प्रत्येक प्रकृति प्रेमी परिवार द्वारा पर्यावरण की दृष्टि से हवन कार्यक्रम की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि प्रवासी मजदूरों के लिए रोजगार उपलब्ध करने का काम कानपुर प्रान्त में शुरू करना बहुत अच्छा है इसको और बढ़ाने की आवश्यकता है। कानपुर में दो दिवसीय प्रवास के बाद सर संघचालक लखनऊ के लिए रवाना हो जाएंगे। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/मोहित/सुनीत-hindusthansamachar.in