किसान आंदोलन के कारण 22वें दिन भी पंजाब-हरियाणा के बीच ट्रेनों का आवागमन ठप
किसान आंदोलन के कारण 22वें दिन भी पंजाब-हरियाणा के बीच ट्रेनों का आवागमन ठप
देश

किसान आंदोलन के कारण 22वें दिन भी पंजाब-हरियाणा के बीच ट्रेनों का आवागमन ठप

news

चंडीगढ़, 15 अक्टूबर (हि.स.)। केंद्र सरकार और पंजाब के किसानों की बैठक बेनतीजा होने से राज्य में चल रहे आंदोलन के चलते रेल विभाग ने स्पेशल ट्रेनों का रद्दीकरण, डायवर्जन एवं आंशिक निरस्तीकरण और बढ़ा दिया है। इससे गुरुवार को 22वें दिन भी ट्रेनें ठप रहीं। ट्रेन संख्या 02425 नई दिल्ली - जम्मूतवी राजधानी एक्सप्रेस, 02426 जम्मूतवी- नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस, 22439 नई दिल्ली- श्री माता वैष्णो देवी कटडा वंदे भारत, 22440 श्री माता वैष्णो देवी कटडा- नई दिल्ली वंदे भारत, 02462 श्री माता वैष्णो देवी कटडा- नई दिल्ली श्री शक्ति विशेष ट्रेन, 02461 नई दिल्ली - श्री माता वैष्णो देवी कटडा श्री शक्ति विशेष ट्रेन,02011 नई दिल्ली - कालका शताब्दी विशेष ट्रेन व 02012 नई दिल्ली - कालका शताब्दी विशेष ट्रेन को 15-16 अक्टूबर को भी रद्द रखने का निर्णय लिया है। इन सभी ट्रेनों को आरंभिक स्टेशनों से रद्द किया गया है। जबकि 02903 - 02904 मुंबई सेंट्रल - अमृतसर गोल्डन टैम्पल मेल-अमृतसर -मुंबई बांद्रा, 02925 - 02926 बांद्रा टर्मिनस एक्सप्रेस और अमृतसर बांद्रा टर्मिनस एक्सप्रेस, 03307 धनबाद - फिरोजपुर एक्सप्रेस व 03308 फिरोजपुर - धनबाद एक्सप्रेस, 04674 अमृतसर- जयनगर शहीद एक्सप्रेस, 02408 अमृतसर - न्यू जलपाईगुड़ी कर्मभूमि सुपरफास्ट व 05934 अमृतसर - डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस ट्रेनों को पंजाब के फिरोजपुर व अंबाला के बीच आंशिक रूप से निरस्तीकरण किया गया है। ये सभी ट्रेन अपने आरंभिक स्टेशनों से चलकर अपनी यात्रा अंबाला में समाप्त करके वहीं से वापस लौटेंगी। उधर, 02716 अमृतसर- नांदेड़ सचखंड एक्सप्रेस व 02715 नांदेड़ सचखंड एक्सप्रेस -अमृतसर नई दिल्ली के बीच ही चलेगी और नई दिल्ली- अमृतसर के मध्य रद्द रहेगी जबकि 02057 -02058 ऊना हिमाचल - नई दिल्ली एक्सप्रेस ट्रेन अंबाला- ऊना के बीच आंशिक रूप से रद्द रहेगी। ट्रेन संख्या 05910 लालगढ़ - डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस का मार्ग परिवर्तन वाया हनुमानगढ़-हिसार - भिवानी- रोहतक से किया गया है। किसानों के रेल रोको आंदोलन के कारण पंजाब में रेल सेवा बुरी तरह से प्रभावित है जिससे आज जनता को भारी परेशानियों से गुजरना पड़ रहा है। आम जनता का कहना है कि मार्च महीने में ही लॉकडाउन को लेकर ट्रेनों के आवागमन पर रोक लगा दी गई थी। रेल मंत्रालय ने कई महीने बाद कुछ स्पेशल ट्रेन शुरू की तो अब किसान आंदोलन को लेकर रेल व यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कुछ ट्रेनों को रद्द और करीब 25 से अधिक ट्रेनों को आंशिक रूप से निरस्त किया गया है। रेल विभाग के अधिकारियों का स्पष्ट कहना है कि किसानों का आंदोलन समाप्त होने पर ही पंजाब के लिए ट्रेनें चलाने पर विचार किया जा सकता है क्योंकि मंत्रालय की पूरी जिम्मेदारी है कि वह रेल व यात्रियों की सुरक्षा करे। हिन्दुस्थान समाचार/नरेंद्र जग्गा-hindusthansamachar.in