कंगना मामले में संजय राऊत पर भी मामला दर्ज किया जाना चाहिए : रामदास आठवले
कंगना मामले में संजय राऊत पर भी मामला दर्ज किया जाना चाहिए : रामदास आठवले
देश

कंगना मामले में संजय राऊत पर भी मामला दर्ज किया जाना चाहिए : रामदास आठवले

news

मुंबई, 10 सितंबर (हि. स.)। केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री रामदास आठवले ने कहा कि कंगना रनौत मामले में शिवसेना के मुखपत्र सामना और प्रवक्ता संजय राऊत पर भी मामला दर्ज किया जाना चाहिए। साथ ही सुशांत सिंह राजपूत के गले पर हुए निशान की गहन जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो( सीबीआई ) को करना आवश्यक है। आठवले ने कहा कि कंगना ने अगर किसी नियम का उल्लंघन किया था, तो मुंबई नगर निगम को उनसे जुर्माना वसूल लेना चाहिए था। उनके बंगले पर इस तरह तोड़फोड़ की कार्रवाई नहीं करनी चाहिए थी। इस बारे में वह कल शुक्रवार को मुंबई नगर निगम के आयुक्त और जिलाधिकारी से बात करेंगे। बंगले पर हुई कार्रवाई से उनका बहुत ज्यादा नुकसान हुआ है, शायद इसी वजह से उन्होंने मुख्यमंत्री के विरुद्ध गलत शब्दों का प्रयोग किया है। रामदास आठवले ने मुंबई पुलिस की तारीफ करते हुए कहा कि मुंबई पुलिस ने ही कंगना को तकनीकी तौर पर तत्काल एयरपोर्ट से निकाल कर उनके घर पहुंचाया था। इसी वजह से वह मुंबई पुलिस का आभार व्यक्त करते हैं। आरपीआई-(ए) प्रमुख आठवले गुरुवार को कंगना रनौत के खार स्थित आवास पर जाकर मिले थे। इसके बाद आठवले ने पत्रकारों को बताया कि कंगना रनौत ने सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच की मांग की थी। उन्होंने इस मामले में ड्रग कनेक्शन की भी जांच की माग की थी। एनसीबी ने इसकी जांच कर ड्रग कनेक्शन की सच्चाई जनता के सामने लाया है। इस मामले में रिया व शोविक को गिरफ्तार किया जा चुका है। लेकिन सुशांत के गले पर मिले जख्म को लेकर अभी भी कई तरह की शंकाएं व्यक्त की जा रहा हैं। सीबीआई को इसकी भी जांच कर सच्चाई आम जनता के सामने लाना चाहिए। आठवले ने कहा कि वह कंगना के मुंबई-महाराष्ट्र विरोधी, मुंबई पुलिस विरोधी, शिवसेना नेताओं विरोधी तथा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे विरोधी बयानों का कत्तई समर्थन नहीं करते हैं। लेकिन जिस तरह मुख्यमंत्री के विरोध में अपमानजनक बयान देने पर कंगना के विरुद्ध मामला दर्ज किया है, इसी तरह कंगना के विरुद्ध शिवसेना के मुखपत्र में व संजय राऊत द्वारा दिए गए अपमानजनक बयानों पर भी मामला दर्ज किया जाना चाहिए। आठवले ने कंगना को मराठी नहीं आती, वह मराठी सीखने का प्रयास कर रही हैं। साथ ही आठवले ने कहा कि कंगना ने राजनीति में आने से मना कर दिया है। उनका कहना है कि वह अभी फिल्मों में ही रहेंगी। हिन्दुस्थान समाचार/ राजबहादुर-hindusthansamachar.in