एनडीए ने जारी किया रिपोर्ट कार्ड, कहा-जन-जन की पुकार-आत्मनिर्भर बिहार
एनडीए ने जारी किया रिपोर्ट कार्ड, कहा-जन-जन की पुकार-आत्मनिर्भर बिहार
देश

एनडीए ने जारी किया रिपोर्ट कार्ड, कहा-जन-जन की पुकार-आत्मनिर्भर बिहार

news

- पार्टी ने दिया नारा, कोई नहीं है प्रवासी-सब हैं सिर्फ बिहारवासी - केंद्र और राज्य सरकार की उपलब्धियों को गिनाया पटना, 16 अक्टूबर (हि.स.)। बिहार विधानसभा चुनाव से पहले शुक्रवार को भाजपा का रिपोर्ट कार्ड जारी किया गया। राजधानी पटना के एक होटल में आयोजित कार्यक्रम में बिहार बीजेपी के चुनाव प्रभारी और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और एनडीए के नेताओं ने रिपोर्ट कार्ड जारी किया। इसमें कहा गया है कि जन-जन की पुकार, आत्मनिर्भर बिहार। साथ ही, पार्टी ने यह नारा दिया है, कोई नहीं है प्रवासी, सब हैं सिर्फ बिहारवासी। इस मौके पर रविशंकर के साथ भाजपा के चुनाव प्रभारी व महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के वरिष्ठ नेता व जल संसाधन मंत्री संजय झा, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान तथा विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के प्रवक्ता विश्वनाथ राम मौजूद थे। रिपोर्ट कार्ड के दौरान केंद्र की नरेंद्र मोदी और बिहार की नीतीश कुमार सरकार की उपलब्धियों को गिनाया गया है। अयोध्या में राम मंदिर की नींव के साथ ही जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर और मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक जैसी कुरीतियों से मुक्ति दिलाकर मोदी सरकार ने अपने वैचारिक पृष्ठभूमि को नया आयाम दिया है। ऐसे फैसले लेकर नरेंद्र मोदी की सरकार ने यह स्पष्ट कर दिया है कि हमारी सरकार विचारधारा से कोई समझौता नहीं कर सकती। रिपोर्ट कार्ड में आत्मनिर्भर बिहार के तहत स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड सहित युवाओं के लिए योजनाओं की जानकारी दी गई है। राज्य में सभी 38 जिलों में इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेज बनाए गए हैं। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग में कुल 14000 नई नियुक्तियां की गई हैं। तीन मेडिकल कॉलेज खोले जा चुके हैं और 11 मेडिकल कॉलेज की स्थापना की जा रही है। भाजपा ने रिपोर्ट कार्ड में कोरोना काल के दौरान केंद्र और राज्य सरकार की ओर से किये गये काम का ब्योरा दिया गया है। बताया गया है राज्य के बाहर फंसे करीब 21 लाख बिहारियों के बैंक के खाते में एक-एक हजार रुपये डाले गये। 1600 से ज्यादा ट्रेनें चलाकर 20 लाख से अधिक गरीब लोगों को मुफ्त में उनके घरों तक पहुंचाया। 32 जिलों में गरीब कल्याण रोजगार अभियान शुरू किये गये। बिहार में 8.1 करोड़ से अधिक गरीबों को 8 महीने के लिए छठ पूजा तक प्रति व्यक्ति 40 किलो मुफ्त में अनाज उपलब्ध कराये जा रहे हैं। यह भी बताया गया कि बिहार में चार प्रमुख अस्पताल कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल के रूप में काम कर रहे हैं। प्रत्येक प्रखंड तक कोरोना जांच की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। एनडीए के 15 साल के शासन में बिहार में सड़कों का जाल बिछा दिया गया। आजादी के 58 वर्ष बाद तक गंगा नदी पर मात्र 4 पुल ही थे, लेकिन पिछले 15 साल में 13 नये पुल बनाने का काम किया गया। इसके अलावा कोसी महासेतु पर रेल के परिचालन की बात भी कही गई है। कोइलवर पुल के समानांतर सिक्स लेन के पुल का निर्माण कार्य जारी है। जिसमें से दो लेन अगले दो महीने में शुरू हो जाएंगे। रिपोर्ट कार्ड में महिला सशक्तिकरण, बिजली और किसानों के लिए किये गये काम का बखान किया गया है। अपने नेता को भ्रष्टाचार से बचाने के लिए हुआ था राजद का जन्मः रविशंकर प्रसाद रिपोर्ट कार्ड जारी करने के मौके पर वरिष्ठ भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हमारी सोच के केंद्र में है विकास। हमने काम किया है और आगे भी करेंगे। एक ओर जनता के प्रति विकास की जिम्मेदारी का भाव और दूसरी ओर अपने परिवार के विकास के प्रति संकल्पित नेता। एक ओर हम नीतीश कुमार के नेतृत्व में किये गए काम की चर्चा कर रहे हैं। रविशंकर राजद पर हमला करते हुए कहा कि हम तो अपना काम गिना रहे हैं, लेकिन वे अपनी विरासत की तस्वीर लगाने से भी शरमा रहे हैं। वे तस्वीर लगाएंगे तो खौफ, लूट और अपहरण की याद आ जाएगी। जब एक बड़े घोटाले में गिरफ्तारी की तलवार लटकने लगी और पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने का दबाव बढ़ने लगा तब राजद बनाया गया। राजद का जन्म ही अपने नेता को भ्रष्टाचार से बचाने के लिए हुआ था। लालू यादव की पार्टी रेत के ढेर पर खड़ी है। बिहार एनडीए में भाजपा, जदयू, हम और वीआइपीः फडणवीस भाजपा के चुनाव प्रभारी व महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने एक बार फिर स्पष्ट किया कि बिहार एनडीए में भाजपा, जदयू, हम और वीआइपी हैं। इनके अलावा अन्य कोई भी घटक दल नहीं है। उन्होंने कहा कि राजग के घटक दल के नेताओं ने कार्यकर्ताओं को स्पष्ट रूप से कह दिया है और कार्यकर्ताओं में अब किसी भी तरह का संशय नहीं है। पहले जाति के नाम पर वोट मांगे जाते थे, पर अब विकास के नाम परः संजय झा जल संसाधन मंत्री व जदयू के वरिष्ठ नेता संजय झा ने कहा कि इस प्रदेश में हमेशा से जाति के नाम पर वोट मांगा गया, लेकिन नीतीश कुमार ने संस्कृति बदली है। अब विकास के मुद्दे पर वोट मांगे जाते हैं। नीतीश कुमार ने 2005 में माइनस से काम शुरू किया था और आज बिहार की क्या स्थिति है, यह किसी से छुपी नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/सुनीत-hindusthansamachar.in