उज्जैन: दो दिन में 11 लोगों की संदिग्ध हालात में मौत, टीआई सहित 4 पुलिसकर्मी निलंबित
उज्जैन: दो दिन में 11 लोगों की संदिग्ध हालात में मौत, टीआई सहित 4 पुलिसकर्मी निलंबित
देश

उज्जैन: दो दिन में 11 लोगों की संदिग्ध हालात में मौत, टीआई सहित 4 पुलिसकर्मी निलंबित

news

- जहरीली शराब पीने से मौतें होने की आशंका, पूरे प्रदेश में मचा हड़कंप उज्जैन/भोपाल, 15 अक्टूबर (हि.स.)(अपडेट)। उज्जैन में पिछले दो दिन में दौरान कुल 11 लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। इनमें बुधवार को सात लोगों की मौत हुई थी, जबकि गुरुवार को भी चार लोगों की मौत हो गई। हालांकि, अभी पुलिस ने मामले का खुलासा नहीं किया है। एसपी मनोज सिंह देर शाम प्रेसवार्ता में मामले का खुलासा कर सकते हैं। इधर, एसपी ने मामले में चार पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। उज्जैन में बुधवार की सुबह करीब सात बजे छत्री चौक सराय के फुटपाथ पर दो मजदूरों के शव मिले थे। इनकी पहचान नागदा निवासी विजय उर्फ कृष्णा (41) और पिपलौदा बागला निवासी शंकरलाल (40) के रूप में हुई। इसके बाद दो अन्य मजदूर दानी गेट निवासी बबलू (40) और छत्री चौक सराय निवासी बद्रीलाल (65) की मौत हो गई। पुलिस को इन दोनों ने इलाज के समय बताया था कि उन्होंने झिंझर (कच्ची शराब) पी थी। इसके बाद उनके पेट में दर्द होने लगा और शाम तक उन दोनों की मौत हो गई। बुधवार की ही शाम करीब सात बजे एक अन्य व्यक्ति दिनेश जोशी (45) का शव माधव गोशाला के पास मिला। महाकाल थाना क्षेत्र के बेगमबाग निवासी पीर शाह (45) ने शाम को अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इसके अलावा छत्री चौक की पार्किंग में 85 साल के एक बुजुर्ग का शव मिला। उसके बारे में भी लोगों ने बताया कि उसने झिंझर पी थी। पुलिस अभी इन मामलों की तफ्तीश कर ही रही थी कि आज गुरुवार की सुबह नरसिंह घाट और ढाबा रोड क्षेत्र से भी दो मजदूरों के शव मिले हैं। ये मजदूर भी शराब के आदी थे। इनकी शिनाख्त रतन मालवीय निवासी झारड़ा और हरदा निवासी राकेश के रूप में हुई है। इसके बाद दोपहर में दो लोगों की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। ये लोग भी मजदूर बताये जा रहे हैं और इन्होंने भी जहरीली शराब पी थी। पुलिस का कहना है कि मजदूर कहारवाड़ी क्षेत्र से सस्ती झिंझर (कच्ची शराब) खरीदकर पीते थे। आशंका है कि ज्यादा शराब पीने से इनकी मौत हुई है लेकिन पुख्ता बात तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगी। फिलहाल, उज्जैन में जहरीली शराब पीने से बुधवार की सुबह से गुरुवार दोपहर तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें 10 मजदूर शामिल हैं। इस घटना से पूरे प्रदेश में हडक़म्प मचा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार की सुबह इस मामले पर एक उच्च स्तरीय बैठक की। उसके बाद मामले की जांच एसआईटी को सौंप दी। चौहान ने कहा है कि दोषियों को किसी कीमत पर छोड़ा नहीं जाएगा। साथ ही गृह विभाग के सचिव को मामले की जांच कराकर दोषी अधिकारियों को तत्काल निलंबित करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा सीएम ने गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव को मामले की जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए हैं। मामले में मामले में पुलिस ने गुरुवार को आठ आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि एसपी मनोज सिंह ने खाराकुआं थाना प्रभारी एमएल मीणा, एसआई, निरंजन शर्मा, आरक्षक शेख अनवर और नवाज शरीफ को निलंबित कर दिया गया है। पुलिस का कहना है कि जांच से पता चला कि मौतें जहरीली शराब पीने से हुई है। पुलिस जांच कर ही रही थी कि गुरुवार सुबह दो और मजदूरों के शव मिले। वहीं दो की इलाज के दौरान मौत हो गई। उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह ने गुरुवार शाम को जानकारी देते हुए बताया कि 14 अक्टूबर की रात्रि एवं 15 अक्टूबर की सुबह संभवतः डीनेचर्ड स्पिरिट पीने से अब तक कुल 11 व्यक्तियों की संदिग्ध मृत्यु हो चुकी है। पोस्टमार्टम के बाद विसरा जांच हेतु सागर लेबोरेटरी में आज ही भेजा जाएगा। मुख्यमंत्री जी के निर्देशानुसार कड़ी कार्यवाही की जायेगी। प्राथमिक जांच में दो-तीन संदिग्ध व्यक्तियों के नाम सामने आये हैं, उनके विरूद्ध रासुका की कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने बताया कि जांच में कुछ दवा स्टोर्स के नाम भी सामने आये हैं, जिनके स्टाक के वेरिफिकेशन का कार्य किया जा रहा है। दवा बाजार स्थित गुप्ता सर्जिकल मेडिकल के यहां निर्धारित मात्रा से अधिक स्पिरिट पाये जाने पर स्टोर को सील किया गया है। नगर निगम व डॉक्टर्स की टीम को फुटपाथ एवं रैन बसेरों में रह रहे लोगों के स्वास्थ्य परीक्षण के लिये लगाया गया है, जिनके द्वारा जांच की जा रही है, जिससे कि अन्य किसी व्यक्ति द्वारा भी इसी तरह के डीनेचर्ड स्पिरिट का सेवन किया गया हो तो उसकी जान बचाई जा सके हिन्दुस्थान समाचार/मुकेश/सुनीत-hindusthansamachar.in