आपातकाल में तो सिर्फ विपक्षी परेशान थे, आफतकाल में हर भारतीय की जान सांसत में है

आपातकाल में तो सिर्फ विपक्षी परेशान थे, आफतकाल में हर भारतीय की जान सांसत में है
आपातकाल-में-तो-सिर्फ-विपक्षी-परेशान-थे-आफतकाल-में-हर-भारतीय-की-जान-सांसत-में-है

कोरोना महामारी ने इतना विकराल रूप धारण कर लिया है कि सर्वोच्च न्यायालय को वह काम करना पड़ गया है, जो किसी भी लोकतांत्रिक देश में संसद को करना होता है। सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वह उसे एक राष्ट्रीय नीति तुरंत बनाकर दे, जो क्लिक »-www.prabhasakshi.com