अटल अमृत पेयजल योजना से बहुरेंगे पानी से जूझ रहे वार्डों के दिन: रवि शर्मा
अटल अमृत पेयजल योजना से बहुरेंगे पानी से जूझ रहे वार्डों के दिन: रवि शर्मा
देश

अटल अमृत पेयजल योजना से बहुरेंगे पानी से जूझ रहे वार्डों के दिन: रवि शर्मा

news

- जनता ने कहा, अधिकारी लगा रहे कल्याणकारी योजनाओं को पलीता - भाजपा विकास के मुद्दे पर लड़ेगी चुनाव: रवि शर्मा झांसी, 15 सितम्बर (हि.स.)। आगामी 19 सितम्बर को प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार अपने साढ़े तीन वर्ष पूरे करने जा रही है। इस साढ़े तीन वर्ष के कार्यकाल में जनपद की सबसे अहम विधानसभा सदर क्षेत्र में अटल अमृत पेयजल योजना के माध्यम से वर्षों से पेयजल संकट से जूझ रहे दर्जन भर से अधिक वार्डों के लोगों को निजात मिलने जा रही है। हालांकि लोगों का अनुभव प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों के व्यवहार के प्रति सहज नहीं दिखा। ऐसी ही समस्याओं और उनके निस्तारण पर कुछ विशेष उपलब्धियों के साथ संवाददाता महेश पटैरिया ने सदर विधायक रवि शर्मा के साथ वार्ता करते हुए हिन्दुस्थान समाचार ने साढे़ तीन वर्ष के कार्यकाल के उपलक्ष्य में साढ़े तीन प्रश्न के जबाब मांगे। हिन्दुस्थान समाचार के पहले प्रश्न साढ़े तीन साल में विकास की कुछ बड़ी परियोजनाओं की जानकारी देते हुए सदर विधायक रवि शर्मा ने बताया कि 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान लोगों से किए गए वायदों को निभाने का प्रयास किया गया। इसके चलते नगर के करीब दर्जन भर से अधिक वार्डों में पेयजल संकट की विकराल समस्या को अटल अमृत अभियान के माध्यम से निस्तारित करने का प्रयास किया जा रहा है। महानगर में पुनर्गठन पेयजल योजना जोकि करीब 850 करोड़ रुपये की है, का कार्य तीव्र गति से चल रहा है। पहले चरण में 219 करोड़ रुपये की लागत से कार्य का शुभारम्भ कर दिया गया है। इससे वर्षों से पिछोर, गुमनावारा,मेडिकल,भगवंतपुरा,लक्ष्मीगेट एवं करगुंवाजी जैसे दर्जन भर क्षेत्रों में पेयजल की भीषण समस्या का समाधान किया जा रहा है। नगर में कार्य योजना के अनुरूप अनेक जगहों पर ओवर हैड टैंक, सी.डब्ल्यू.आर यूनिट एवं नगर में पाइपलाईन बिछाये जाने का कार्य तीव्र गति से चल रहा है, जो कि शीघ्र ही पूरा कर लिया जायेगा। त्वरित आर्थिक विकास योजना (रुपये 5 करोड़) के अन्तर्गत सड़कों का निर्माण ग्रामीण अभियन्त्रण विभाग द्वारा कराया जा चुका है। उन्होंने बताया कि बुन्देलखण्ड विकास निधि एवं विधायक निधि से लगभग 12 करोड़ की लागत के कार्य विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न वार्डों में कराये जा चुके हैं। पं. दीनदयाल उपाध्याय सभागार का नई साज-सज्जा के साथ पुनर्निर्माण कराया गया है। बिजौली में राजकीय महाविद्यालय की स्वीकृति राज्य सरकार से मिल चुकी है, जो कि शीघ्र ही लोकार्पित होगी। भाजपा विकास के मुद्दे पर ही लड़ेगी अपना चुनाव जब दूसरे प्रश्न के रुप में सदर विधायक से पूछा गया कि डेढ़ वर्ष बाद विधानसभा चुनाव हैं। भारतीय जनता पार्टी किन मुद्दों को लेकर जनता के बीच जाएगी। इसका जबाब देते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा का मूल उद्देश्य सदा से विकास ही रहा है और पार्टी अगला चुनाव विकास के मुद्दे पर ही लड़ेगी। मेरा चुनाव पार्टी के विकासोन्मुख नीतियों एवं कार्यक्रमों पर ही आधारित होगा। पार्टी का विकास के अलावा कोई सारोकार नहीं तीसरे प्रश्न प्रदेश में अन्य पार्टियों की सरकारों और भाजपा की सरकार के बीच में अन्तर का जबाब देते हुए विधायक रवि शर्मा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का मूल उद्देश्य 'अन्त्योदय', यानि समाज के अन्तिम व्यक्ति का विकास रहा है। जबकि अन्य पार्टियों का विकास से कोई भी और कभी भी सरोकार नहीं रहा है। विघटन और विभाजन उनकी नीतियों में हमेशा शामिल रहा है। श्रीराम मंदिर निर्माण हिन्दू आस्था का प्रतीक,राजनीति नहीं विधायक रवि शर्मा ने अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर प्रभु श्रीराम के मन्दिर निर्माण को राजनीति से परे बताया। कहा कि भारतीय जनता पार्टी के चुनावी घोषणा पत्र में हमेशा ही प्रभु श्रीराम के मंदिर का निर्माण प्रमुख एजेण्डा रहा है। सैकड़ों वर्षों के बाद जन्मभूमि पर श्रीराम मन्दिर के निर्माण का मार्ग प्रसस्त हुआ है। मन्दिर निर्माण का विषय हिन्दू आस्था का प्रतीक है। इसे राजनीति से नहीं जोड़ा जाना चाहिए। अधिकारियों के व्यवहार से जनता असहज, मोदी-योगी से नहीं कोई गिला केन्द्र में मोदी और प्रदेश में योगी सरकार के प्रति लोगों के अलग-अलग अनुभव हैं। लोगों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कुछ खास गिला सिकवा नहीं है। हां शासन की मंशा के अनुरुप धरातल पर भाजपा की कल्याणकारी नीतियों को न उतार पाने वाले अधिकारियों के प्रति लोग सहज नहीं हैं। उनका मानना है कि प्रदेश के मुखिया की लाख कोशिशों के बाद भी जिले के अधिकारियों का व्यवहार जनता के प्रति ठीक नहीं है। इसी के चलते कभी कभी अराजकता का माहौल भी देखने को मिलता रहा है। परिणामस्वरुप कई बार जनप्रतिनिधियों को अधिकारियों की चौखट तक जाना पड़ा। अधिवक्ता केशवेन्द्र प्रताप सिंह बताते हैं कि केन्द्र व प्रदेश सरकार से लोग पूरी तरह संतुष्ट हैं। श्रीराम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त कर देश के नागरिकों की वर्षों की इच्छा पूर्ण हुई है। लेकिन बिडम्बना है कि शासन की मंशा को अधिकारी धरातल पर नहीं ला पा रहे हैं। उन्होंने योगी सरकार की पांच उपलब्धियां गिनाते हुए बताया कि श्रीराम मंदिर निर्माण,दंगों पर नियंत्रण,अच्छे निवेश को आकर्षित करना,जनता से संवाद स्थापित करना और अपराधियों पर नकेल कसने जैसी बड़ी उपलब्धियां प्रदेश सरकार को प्राप्त हुई हैं। लोग केन्द्र में प्रधानमंत्री मोदी और प्रदेश में योगी सरकार को फिर से देखना पसन्द करेंगे। कुछ ऐसा ही कहना संतराम पेण्टर का भी है। उन्होंने बताया कि वह अपने विधायक से संतुष्ट है। केन्द्र और प्रदेश की सरकार की कल्याणकारी योजनओं ने कोरोनाकाल में गरीबों को सहारा दिया है। मनरेगा ने लोगों को उबरने का मौका दिया है। साथ कोरोना काल में गरीबों तक पहुंचाया गया निशुल्क राशन मोदी-योगी के सफल और सहयोगवादी शासन का उदाहरण है। हालांकि करीब एक दर्जन लोगों ने अपना नाम न छापने की शर्त पर अधिकारियों को अव्यवहारिक बताया। विधानसभा क्षेत्र के पं. केशवदास तिवारी का कहना है कि केन्द्र व प्रदेश सरकार के कार्यों से वह संतुष्ट हैं। इसमें कोई दो राय नहीं कि अपराधियों पर अंकुश लगा है। सरकार गरीबों के लिए भी तमाम कल्याणकारी योजनाएं चलाकर उन तक पहुंच रही है। लेकिन प्रदेश में ब्राम्हणों के प्रति न्याय नहीं हो रहा है। यह बात उन्हें कहीं न कहीं कचोटती भी है। वह किसी अपराधी के साथ कदापि सहानुभूति नहीं रखते, लेकिन यह टीस उन्हें जरुर है। उन्होंने यह भी बताया कि देश के प्रधानमंत्री के कार्य देश ही नहीं दुनिया में आकर्षण का केन्द्र बने हुए हैं। आगामी चुनाव में मंदिर निर्माण से भाजपा की छवि में चार चांद लगेंगे। हिन्दुस्थान समाचार-hindusthansamachar.in