अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति की सेवा ही नरेन्द्र मोदी के जीवन का ध्येयः नड्डा
अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति की सेवा ही नरेन्द्र मोदी के जीवन का ध्येयः नड्डा
देश

अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति की सेवा ही नरेन्द्र मोदी के जीवन का ध्येयः नड्डा

news

अजीत पाठक नई दिल्ली, 14 सितम्बर (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का प्रमुख लक्ष्य सेवा रहा है। समाज की सेवा, राष्ट्र की सेवा और समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति की सेवा ही उनके जीवन का ध्येय है। नड्डा ने सोमवार को गौतम बुद्ध नगर, उत्तर प्रदेश के ग्राम छपरौली के पार्क में वृक्षारोपण के साथ ‘सेवा सप्ताह’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संपूर्ण जीवन देश सेवा और गरीबों के उत्थान एवं उनके सशक्तिकरण के लिए ही समर्पित रहा है। इसलिए भाजपा पिछले छः वर्षों से प्रधानमंत्री के जन्मदिन के अवसर पर हर वर्ष 14 से 20 सितंबर तक ‘सेवा सप्ताह’ आयोजित करती रही है। कार्यकर्ता इस अवसर पर सफाई कार्यक्रम, पौधरोपण, श्रमदान, रक्तदान जैसे कार्यक्रमों का आयोजन कर रहे हैं। देशव्यापी ‘सेवा सप्ताह' कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए नड्डा ने छपरौली के पार्क में वृक्षारोपण किया और यहीं पर सेवा बस्ती में फलों का वितरण किया। इसके पश्चात् उन्होंने ग्राम वासियों से संवाद किया। नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी इस वर्ष 17 सितंबर को अपने जीवन के 70 वर्ष पूरे कर रहे हैं, इसलिए इस बार के ‘सेवा सप्ताह' कार्यक्रम की थीम भी ‘70' रखी गई है। इस ‘सेवा सप्ताह' कार्यक्रम के दौरान 14 से 20 सितंबर तक हर जिले में 70 स्थानों पर सेवा भाव के साथ स्वच्छता कार्यक्रम, ब्लड डोनेशन, प्लाज्मा डोनेशन, दिव्यांगों को उपकरणों का वितरण, अस्पतालों एवं गरीब बस्तियों में फलों का वितरण और वृक्षारोपण जैसे कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। इसके साथ ही हर जिले में पार्टी कार्यकर्ता कम से कम 70 लोगों को ‘सेवा सप्ताह' कार्यक्रम से ‘सेवाव्रती' के रूप में जोड़ेंगे। इसके अतिरिक्त हर जिले में 70 वर्चुअल रैलियाँ भी आयोजित की जायेगी। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि वर्ष 2014 में नरेन्द्र मोदी केवल देश के प्रधानमंत्री ही नहीं बने बल्कि उन्होंने भारत की राजनीतिक संस्कृति को भी बदल कर रख डाला और विकास की कार्य संस्कृति की शुरुआत की। पहले नेता जनता से वादे करते थे और फिर वादों से बेवफाई करते हुए उसे भूल जाते थे। लेकिन मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद इस तरह का भाव जागा है कि चुने गए हैं तो काम करेंगे, इसके साथ-साथ जनता की सेवा करेंगे और अपना रिपोर्ट कार्ड लेकर जनता के बीच जायेंगे और उन्हें बताएँगे। अब देश की जनता भी भलीभांति समझने लगी है कि नरेन्द्र मोदी ने किस तरह देश की राजनीतिक संस्कृति को बदलते हुए विकास की कार्य संस्कृति विकसित की है। नड्डा ने कहा कि पहले राजनीति में शुरू में ‘सेवा’ के बदले ‘मेवा' खाने का काम होता था। आज समाज के अंतिम पायदान पर खड़े गरीबों, दलितों, पीड़ितों, शोषितों और वंचितों को मुख्यधारा में लाने का काम हो रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण देशव्यापी लॉकडाउन के समय तीन महीने तक मोदी सरकार ने गरीब महिलाओं को तीन मुफ्त गैस सिलिंडर उपलब्ध करवाई। साथ ही, देश के 80 करोड़ लोगों के लिए मार्च से नवंबर तक मुफ्त राशन का भी प्रबंध किया। भाजपा अध्यक्ष ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के बारे में बोलते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति सबको अवसर देगी और बराबर का अवसर देगी। नई शिक्षा नीति में यह सुनिश्चित किया गया है कि भारत और भारतीय भाषाओं का विकास हो सके। हिन्दुस्थान समाचार-hindusthansamachar.in