नाचा संस्था ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सिद्ध कर दिया है कि ‘छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया‘: राज्‍यपाल

नाचा संस्था ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सिद्ध कर दिया है कि ‘छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया‘: राज्‍यपाल
nacha-institution-has-proved-at-international-level-that-39chhattisgarh-is-good39-governor

राज्यपाल नॉर्थ अमेरिका छत्तीसगढ़ एसोसिएशन (नाचा) के द्वारा आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में हुई शामिल ब्लड फॉर अस पोर्टल का किया शुभारंभ रायपुर, 22 मई (हि.स.)। छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके शनिवार को नॉर्थ अमेरिका छत्तीसगढ़ एसोसिएशन (नाचा) के द्वारा आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में शामिल हुई। इस दौरान उन्होंने ब्लडफॉर अस पोर्टल का शुभारंभ किया। ब्लडफॉर अस पोर्टल की सराहना करते हुए उन्होंने रक्तदान को मानवीय कार्य बताया। राज्यपाल ने कहा कि आप लोगों को गणेश वंदना से कार्यक्रम की शुरुआत की मुझे बहुत अच्छा लगा। आप लोगों ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर यह सिद्ध कर दिया है कि ‘छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया‘। राज्यपाल ने विदेशों में निवासरत चिकित्सा क्षेत्र के विशेषज्ञों का छत्तीसगढ़ के विशेषज्ञों और नागरिकों के साथ वर्चुअल मीटिंग करने सुझाव दिया। साथ ही इम्युनिटी बढ़ाने के तरीके की भी जानकारी देने को कहा। उन्होंने कहा कि राज्यपाल प्रदेश का पालक होता है। जब मैं राज्यपाल बनीं तो उसके बाद से अब तक जो भी राजभवन के दरवाजे आया उसको मैंने सम्मान दिया। मैंने सभी को समान भाव से देखा और मदद करने की कोशिश की। ऐसी ही भावना से आप छत्तीसगढ़वासियों की सेवा कर रहे हैं, यह सराहनीय है। उन्होंने कहा कि इस कोरोना के समय सबसे अधिक जरूरत टीकाकरण की जागरुकता की विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में, आपसे आग्रह है कि आप जिस क्षेत्र से हैं उन क्षेत्रों के लोगों को जागरूक करें और भ्रांतियां दूर करने में मदद करें। भविष्य में कोरोना की और लहर आने की संभावना है। साथ ही ब्लैक फंगस की बीमारी भी फैल रही है। ऐसी बीमारियों से निजात पाने के लिए आप लोगों में जो विशेषज्ञ हों वो आगे आएं और कोरोना के तीसरी लहर के प्रति लोगों को आगाह करें। राज्यपाल ने कोरोना काल में राजभवन में किए गए जागरूकता कार्यक्रम की भी जानकारी दी। राज्यपाल ने कहा कि पिछले कुछ समय से पूरा देश सहित हमारा छत्तीसगढ़ कोविड-19 के संक्रमण से गुजर रहा है। कुछ समय पहले हमने संक्रमण के प्रथम चरण का भी सामना किया था, लेकिन फिर से कोरोना के दूसरे संक्रमण का भी सामना करना पड़ रहा है। शुरुआत में इस संक्रमण के लिए अपेक्षाकृत तैयार नहीं थे। इस कारण कुछ ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ा। अब स्थिति संभल रही है। इस दौरान कई स्वयंसेवी संस्थाओं ने पीड़ितों की मदद की। नाचा संस्था द्वारा किए कार्यों के लिए राज्यपाल ने उन्हें धन्यवाद दिया और उनकी सराहना भी की। उन्होंने कहा कि नाचा संस्था द्वारा ब्लड फॉर अस पोर्टल की शुरुआत की जा रही है। उसके लिए मैं उन्हें शुभकामनाएं देती हूं। इस कोविड संकट के समय रक्तदान शिविर का आयोजन नहीं हो पा रहा है। रक्तदाता भी रक्तदान नहीं कर पा रहे हैं, जिससे ब्लड बैंक में रक्त की कमी की समस्या खड़ी हो सकती है। अतः ब्लड फॉर अस पोर्टल के माध्यम से बीमार, दुर्घटना में घायल या अन्य लोगों को रक्त की सहायता मिलेगी। यह इस समय सबसे बड़ा मानवीय कार्य है। इससे किसी की जान बच सकती है। सबसे अच्छी बात है कि यह कार्य छत्तीसगढ़ के ऐसे निवासियों ने शुरू की है जो विदेशों में रह रहे हैं और राष्ट्रीय स्तर पर कार्य कर रहे हैं। ब्लड फॉर अस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्रीगणेश कर ने बताया कि ब्लड फॉर अस पोर्टल अमेरिका में निवासरत छत्तीसगढ़ के नागरिकों द्वारा शुरू किया गया संस्था है, जिसके द्वारा जरूरतमंद लोगों के रक्त की व्यवस्था की जाएगी। इसके लिए दानदाताओं और रक्त की उपलब्धता का डेटाबेस रहेगा। रायपुर में एक कॉल सेंटर की स्थापना की जाएगी, जिसके माध्यम से जरूरतमंद लोगों की मदद की जाएगी। अगर किसी को रक्तदाता की आवश्यकता है तो वह https.www.blood4us.com@register पर अपना अनुरोध सबमिट कर सकता है। हिन्दुस्थान समाचार/चंद्रनारायण शुक्ल

अन्य खबरें

No stories found.