मूडीज और फिच ने कई दिग्‍गज भारतीय कंपनियों के साथ बैंकों की रेटिंग घटाई
मूडीज और फिच ने कई दिग्‍गज भारतीय कंपनियों के साथ बैंकों की रेटिंग घटाई
news

मूडीज और फिच ने कई दिग्‍गज भारतीय कंपनियों के साथ बैंकों की रेटिंग घटाई

news

नई दिल्ली, 02 जून (हि.स.)। अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसियों मूडीज और फिच ने मंगलवार को भारत की कई कंपनियों और बैंकों की रेटिंग्स घटा दी है। भारत की सॉवरेन रेटिंग घटाने के बाद मूडीज ने अब तक कुल 15 कंपनियों और 3 बैंकों की रेटिंग घटा दी है, जिसमें इंफोसिस, टीसीएस जैसी दिग्गज कंपनियां और एसबीआई और एचडीएफसी बैंक जै शामिल हैं। वहीं, फिच रेटिंग्स ने भी कई दिग्गज कॉरपोरेट की रेटिंग घटा दी है। फिच रेटिंग्स ने जारी ताजा रिपोर्ट में टाटा मोटर्स, फ्यूचर रिटेल, जएसडब्ल्यू स्टील लिमिटेड, टाटा स्टील, केयर्न इंडिया होल्डिंग की रेटिंग या तो घटा दी है या इनके लिए आउटलुक को निगेटिव रिवीजन कर दिया है। गौरतलब है कि इसके पहले मूडीज ने कोरोना संकट के दौर में अर्थव्यस्था की खराब हालत को देखते हुए भारत की सॉवरेन रेटिंग को घटा दिया है। इससे भारत सरकार के लिए चुनौती बढ़ गई है, क्योंकि इससे देश के निवेश पर असर पड़ता है। गौरतलब है कि रेटिंग एजेंसी मूडीज ने ओएनजीसी, एचपीसीएल, इंडिया लिमिटेड, इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड, भारत पेट्रोलियम इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड, भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड, पेट्रोनेट एलएनजी, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) और इंफोसिस का आउटुलक निगेटिव रखा है, जबकि रिलायंस इंडस्ट्रीज की रेटिंग में बदलाव नहीं किया गया है। लेकिन आउटलुक को स्टेबल से निगेटिव कर दिया गया है। उल्लेखनीय है कि इनके अलावा मूडीज ने सात भारतीय इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनियों की रेटिंग भी घटाई है। इनमें एनटीपीसी, एनएचएआई, गेल, अडानी ग्रीन एनर्जी जैसी कंपनियां शामिल हैं। हालांकि, इसको लेकर राजनीति भी गरमा गई है। एक ओर सत्ता पक्ष के कई नेता रेटिंग एजेंसियों की की मंशा पर सवाल उठाने लगे हैं, तो सॉवरेन रेटिंग घटाने पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी टिप्पणी की है। हिन्दुस्थान समाचार/प्रजेश शंकर-hindusthansamachar.in