डॉ. मुखर्जी के सपने को प्रधानमंत्री मोदी ने किया पूरा : भाजपा नेता
डॉ. मुखर्जी के सपने को प्रधानमंत्री मोदी ने किया पूरा : भाजपा नेता
news

डॉ. मुखर्जी के सपने को प्रधानमंत्री मोदी ने किया पूरा : भाजपा नेता

news

भोपाल, 23 जून (हि.स.)। डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी का मानना था कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और उन्होंने यह तय कर लिया था कि कश्मीर से धारा 370 हटानी होगी। उनका मानना था एक देश में दो निशान, दो विधान, दो प्रधान स्वीकार्य नहीं हैं। डॉ. मुखर्जी ने इसके लिए आंदोलन किया और अपना बलिदान भी दिया। उनके इस सपने को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने पूरा किया है। यह बात पार्टी नेताओं ने डॉ. मुखर्जी के बलिदान दिवस पर मंगलवार को भोपाल में उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर केंद्रित चित्र प्रदर्शनी के शुभारंभ के अवसर पर कही। प्रदर्शनी भाजपा द्वारा लगाई गई थी। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत सहित पार्टी के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। डॉ. मुखर्जी न होते, तो प.बंगाल भी पाकिस्तान बन जाता: शिवराज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डॉ. मुखर्जी के जीवनवृत्त पर प्रकाश डालते हुए कहा कि बचपन से मेधावी डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी 33 वर्ष की आयु में कुलपति बन गए थे और कई भाषाओं के ज्ञाता थे। उन्होंने कहा कि आजादी के समय यदि डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी न होते तो पश्चिम बंगाल भी पाकिस्तान का हिस्सा बन जाता, लेकिन डॉ. मुखर्जी के धैर्य, साहस और तत्परता के चलते आज पश्चिम बंगाल भारत का अंग है। डॉ. मुखर्जी जब हिंदू महासभा के अध्यक्ष बने तब महात्मा गांधी ने स्वयं कहा था कि पं. मदनमोहन मालवीय के बाद हिंदुओं को डॉ. मुखर्जी के रूप में एक कर्मठ और सच्चा नेता मिला है। उन्होंने कहा कि डॉ. मुखर्जी ने कांग्रेस और पं. नेहरू की तुष्टीकरण की नीति के चलते नेहरू मंत्रिमंडल छोड़ दिया और भारतीय जनसंघ का गठन किया। उन्होंने कहा कि डॉ. मुखर्जी ने यह निश्चय कर लिया था कि धारा-370 हटाएंगे और एक देश में दो निशान, दो विधान और दो प्रधान नहीं चलेंगे। उन्होंने कहा था कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और मैं वहां बिना परमिट के जाउंगा। उन्होंने कश्मीर की पवित्र धरा पर बिना परमिट के प्रवेश किया और वहीं जेल में संदिग्ध परिस्थितियों में उनका स्वर्गवास हो गया। यह डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी का बलिदान था और आज उनका बलिदान दिवस है। शिवराज ने कहा कि लोग यह मानने लगे थे कि धारा 370 को हटाना सिर्फ एक नारा है, धारा 370 कश्मीर से नहीं हटेगी। लेकिन धन्य हैं प्रधानमंत्री मोदी जी और गृहमंत्री अमित शाह ने आज डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी के सपने और संकल्प को साकार करके दिखाया। कश्मीर से धारा 370 हटने का श्रेय डॉ. मुखर्जी को जाता है। हम उन्हें श्रद्धा से प्रणाम करते हुए यह संकल्प लेते हैं कि उन्होंने जो सपना देखा था उसे हमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में पूरा करेंगे और हमारे अंदर जो सर्वश्रेष्ठ है उसे झौंककर काम करेंगे। उन्होंने कहा कि जिस गौरवशाली, वैभवशाली, समृद्धशाली और शक्तिशाली भारत भारत का सपना डॉ. मुखर्जी ने देखा था, वह आज साकार हो रहा है। प्रदर्शनी बताती है क्यों हुई जनसंघ की स्थापना: प्रभात झा पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने कहा कि डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने जनसंघ की स्थापना की, उनके जन्म से लेकर बलिदान होने तक की चित्रात्मक प्रदर्शनी लगाई गई है। इसके लिए जिला भाजपा बधाई की पात्र है। इस प्रदर्शनी को देखकर कार्यकर्ता स्वयं गौरवान्वित होता है। उसे पता चलता है कि जनसंघ की स्थापना क्यों हुई। उसे इस बात का जवाब भी इस प्रदर्शनी को देखकर मिल जाता है कि हम भारतीय जनता पार्टी में कार्य क्यों करते हैं। भाजपा को सबसे बड़ा दल बनाने का श्रेय डॉ. मुखर्जी को: विष्णुदत्त शर्मा पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने भारत की एकता और अखण्डता के लिए बलिदान दिया। भाजपा आज अगर सबसे बड़ा राजनीतिक दल बनकर उभरा है तो इसका श्रेय जनसंघ के नेता डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी को जाता है। डॉ. मुखर्जी ने एक देश में दो विधान, दो प्रधान नहीं चलेंगे का नारा देकर आंदोलन किया और बिना परमिट के कश्मीर गए। तत्कालीन सरकार ने उन्हें गिरफ्तार किया। डॉ. मुखर्जी ने धारा-370 हटाने का जो संकल्प लिया था उसे पूरा करने का काम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह जी ने किया है। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश तोमर/केशव-hindusthansamachar.in