हम-नाम-छपवाकर-दान-देते-हैं-पर-परमात्मा-हमेशा-छिपाकर-पं-नीरज |Madhya Pradesh Hoshangabad Timarni News नाम दान परमात्मा छिपाकर पं नीरज Hindi Latest News 


बड़ी खबरें

हम नाम छपवाकर दान देते हैं, पर परमात्मा हमेशा छिपाकर देते हैं : पं. नीरज

हम नाम छपवाकर दान देते हैं, पर परमात्मा हमेशा छिपाकर देते हैं : पं. नीरज

नगर में पानी की टंकी के पास चल रही भागवत कथा भास्कर संवाददाता | टिमरनी हम जो भी देते हैं उसमें हम नाम छपवाकर दान देते हैं। पर परमात्मा हमें हमेशा छिपाकर देते हैं। हम जिस तरह हमारे व्यापार में पिता का नाम जोड़ते हैं उसी तरह धर्म कर्म और भक्ति भी वंशानुगत होती है। प्रह्लाद ने राम ने ध्रुव तथा श्रवणकुमार ने अपने माता-पिता का नाम रोशन किया। हमारे मन का संबंध मंत्र से है। अत: हम मन को मंत्र से जोड़ें मंत्री से नहीं दुर्योधन का संबंध ज्यादातर मंत्रियों से रहा और जीवन में पराजय का सामना करना पड़ा। दूसरी ओर पांडवों के पास संख्या कम थी पर शंखधारी साथ में था। उन्होंने सबको गीता के मंत्रों
www.bhaskar.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

www.bhaskar.com से अधिक समाचार