पश्चिम बंगाल विस चुनावः जगह-जगह जारी है टकराव, हेवीवेट नेताओं ने दिए वोट

पश्चिम बंगाल विस चुनावः जगह-जगह जारी है टकराव, हेवीवेट नेताओं ने दिए वोट
west-bengal-vis-election-conflicts-in-place-heavyweight-leaders-vote

कोलकाता, 26 अप्रैल (हि.स.)। पश्चिम बंगाल में सोमवार को सातवें चरण के मतदान के दौरान जगह-जगह टकराव जारी है। इस बीच कई हैवीवेट नेताओं ने भी अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर लिया है। बालीगंज के भाजपा उम्मीदवार लोकनाथ चटर्जी पुलिस से भिड़ गए। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस भाजपा के पोलिंग एजेंट को डरा धमका रही है। हरिशचंद्रपुर में तृणमूल कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं पर मतदाताओं को डराने-धमकाने का आरोप लगाया है। उधर, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और डायमंड हार्बर के सांसद अभिषेक बनर्जी ने मित्रा इंस्टिट्यूशन में अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया है। बालीगंज मॉडर्न हाईस्कूल के एक मतदान केंद्र पर तृणमूल कांग्रेस की स्टार सांसद नुसरत जहां ने मताधिकार का इस्तेमाल किया है। इसके अलावा बालीगंज से तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार सुब्रत मुखर्जी ने मंदिर में पूजा की, उसके बाद मतदान केंद्रों का दौरा करने के लिए निकल गए हैं। नंदीग्राम में ममता बनर्जी के खिलाफ चुनाव लड़ रही माकपा उम्मीदवार मीनाक्षी मुखर्जी ने कुल्टी में अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया है। मशहूर चिकित्सक और माकपा के बालीगंज से उम्मीदवार फुआद हलिम ने भी अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर लिया है। आसनसोल के बाराबनी इलाके में संयुक्त मोर्चा के पोलिंग एजेंट को मारने-पीटने का आरोप लगा है। वाटगंज में भाजपा के तीन पोलिंग एजेंट को मतदान केंद्र के अंदर बैठने नहीं दिया गया। आरोप तृणमूल कांग्रेस पर है। बाद में जब चुनाव आयोग से इसकी शिकायत की गई तब उन्हें बैठने की अनुमति दी गई। मुर्शिदाबाद के रानीनगर से भाजपा उम्मीदवार पर हमले के आरोप लगे थे लेकिन चुनाव आयोग ने प्रारंभिक जांच के बाद स्पष्ट कर दिया है कि कोई हमला नहीं हुआ है। रासबिहारी में कांग्रेस उम्मीदवार आशुतोष चटर्जी को मतदान केंद्र के अंदर नहीं प्रवेश करने देने का आरोप सेंट्रल फोर्स के जवानों पर लगाया। बाराबंकी में भाजपा नेताओं को मारने-पीटने का आरोप लगा है। यहां से भाजपा उम्मीदवार अभिजीत रॉय ने आरोप लगाया है कि पुलिस की मदद से तृणमूल कार्यकर्ताओं ने मारा-पीटा और सलानपुर थाने की पुलिस ने पीड़ित को ही थाने में बंद कर दिया। इधर रतुआ में भी निर्दलीय उम्मीदवार के पोलिंग एजेंट को मारने-पीटने का आरोप लगा है। मालदा के इस क्षेत्र में आरोप है कि रात से ही 10 एजेंट को तृणमूल कांग्रेस के लोगों ने बंदी बना लिया था। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश