travelers-coming-directly-to-metropolises-from-european-and-west-asian-countries-will-have-to-get-the-corona-test-done-at-the-airport
travelers-coming-directly-to-metropolises-from-european-and-west-asian-countries-will-have-to-get-the-corona-test-done-at-the-airport
पश्चिम-बंगाल

यूरोपिय और पश्चिमी एशियाई देशों से सीधे महानगर आने वाले यात्रियों को हवाई अड्डे पर करवाना होगा कोरोना टेस्ट

news

कोलकाता, 23 फरवरी (हि. स.)। ब्रिटेन, यूरोप, दक्षिण अफ्रिका, ब्राजिल और पश्चिमी एशियाई देशों से आने वाले यात्रियों को कोलकाता पहुंचने के बाद एअरपोर्ट पर ही कोरोना की जांच के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट किया जाएगा। यदि पहले से उनके पास नेगेटिव रिपोर्ट रहती है। इसके बावजूद उनको कोलकाता एअरपोर्ट पर आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाना अनिवार्य होगा। मंगलवार से यह नियम लागू हो गया है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा कई देशों में सार्स-कोव2 के फैलने की खबरों के बाद जारी दिशा-निर्देशों के बाद यह निर्णय लिया गया है। एअरपोर्ट सूत्रों के अनुसार मंगलवार को पश्चिम एशियाई देशों से कोलकाता आने वाले चार विमानों से 500 यात्रियों को आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाना पड़ा। सोमवार को एअरपोर्ट के अंतरराष्ट्रीय अराईवल क्षेत्र में स्वाब के सैंपल लेने के लिए नये काउंटर खोले गये हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने खासतौर पर कोरोना के खतरों के मद्देनजर विदेशी यात्रियों के लिए नये निर्देश जारी किये हैं। कोलकाता एअरपोर्ट के एक उच्चाधिकारी ने बताया कि इन देशों से आने वाले यात्रियों के पास विमान में सवार होने के 72 घंटा पहले आरटी-पीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट का होना अनिवार्य है। कोलकाता में पहुंचने के बाद उनके स्वाब का सैंपल इकट्ठा किया जाएगा जिसके बाद यात्रियों को एअरपोर्ट छोड़ने की अनुमति दी जाएगी। यदि किसी यात्री का रिपोर्ट पॉजिटिव आता है तो स्वास्थ्य विभाग उससे संपर्क करेगा। स्वास्थ्य विभाग के दिशा-निर्देश के अनुसार जो विदेशी यात्री कोलकाता से दूसरे भारतीय शहरों में जाने वाले होंगे, उन्हें स्वाब का सैंपल देने के बाद एअरपोर्ट पर ही छह से आठ घंटों तक रिपोर्ट का इंतजार करना होगा। इस बारे में एअरलाइंस कंपनियों को ही यात्री को इंतजार करने की जानकारी दे देनी होगी। यदि किसी यात्री का रिपोर्ट पॉजीटिव आता है तो उसके रिपोर्ट को आगे जांच के भेज दिया जाएगा ताकि यह पता चल सके कि वायरस सार्स-कोव2 का म्यूटेंट वेरियंट वाला तो नहीं है। अब तक ब्रिटेन से आने वाले वैसे यात्रियों को ही केवल एअरपोर्ट पर स्वाब टेस्ट करवाना पड़ता था जिनके पास आरटी-पीसीआर रिपोर्ट नहीं होता था। एअरपोर्ट के अधिकारियों के अनुसार, ऐसा संभव नहीं है कि सैंकड़ों यात्रियों को स्वाब सैंपल देने के बाद एअरपोर्ट पर छह से आठ घंटों के लिए इंतजार करना पड़ा। इसलिए निर्णय लिया गया है कि सैंपल लेने के बाद यात्रियों को घर जाने दिया जाएगा। कोलकाता से यूरोप की सीधी उड़ान नहीं होने के कारण ब्रिटेन, यूरोप, साउथ अफ्रिका व अन्य देशों से आने वाले यात्रियों को पश्चिम एशिया, दिल्ली या फिर मुंबई होकर आना पड़ता है। एअरपोर्ट के अधिकारियों का कहना है कि अब हमारी दुबई, दोहा, बांग्लादेश, नेपाल और भूटान के लिए सीधी उड़ाने हैं। जो यात्री दोहा और दुबई से आ रहे हैं, उन्हें आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाने की आवश्यकता है। अन्य को भी खुद की कम से कम 24 दिनों तक निगरानी करनी चाहिए। राज्य के स्वास्थ्य विभाग सूत्रों के अनुसार बेलेघाटा अस्पताल में सार्स-कोव2 के संक्रमण के इलाज के लिए अलग वार्ड तैयार किया गया है। कोलकाता से मुंबई, पूणे, नागपुर, चेन्नई और अहमदाबाद की सीधी उड़ान की अनुमति भी नहीं दी जा रही है। इन शहरों से सप्ताह में तीन दिन ही विमानों को आने की अनुमति है। हिन्दुस्थान समाचार/ ओम प्रकाश/गंगा

AD
AD