जरूरत पड़ने पर संवेदनशील जिलों नियुक्त होंगे विशेष पर्यवेक्षक : मुख्य चुनाव आयुक्त

जरूरत पड़ने पर संवेदनशील जिलों नियुक्त होंगे विशेष पर्यवेक्षक : मुख्य चुनाव आयुक्त
sensitive-districts-will-be-appointed-as-special-supervisors-if-needed-chief-election-commissioner

सिलीगुड़ी, 24 मार्च (हि.स.)। केन्द्रीय चुनाव आयोग की फुल बेंच ने आज एक बार फिर पश्चिम बंगाल में चुनाव की व्यवस्था और तैयारियों का जायजा लिया। चुनाव ने आयोग ने महिला कार्यकर्ताओं से दुर्व्यवहार करने के आरोप में एक पर्यवेक्षक को निलंबित कर दिया है। बुधवार को मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा के नेतृत्व में चुनाव आयोग की फुल बेंच ने सिलीगुड़ी के सुकना स्थित एक होटल में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने पत्रकारों से वार्ता की। उन्होंने बताया कि संवेदनशील जिलों पर चुनाव आयोग की टीम की विशेष नजर है। जरूरत पड़ी तो उन जिलों में विशेष पर्यवेक्षक रखा जायेगा। मुख्य चुनाव आयुक्त अरोड़ा ने कहा कि कोरोना को देखते हुए इस बार मतदान केंद्रों की संख्या बढ़ाई गई है। कोरोना नियमों को मानकर निर्वाचन प्रक्रिया को संपन्न की जाएगी। इस बार मतदान केंद्र निचले फ्लोर पर ही होंगे। उन्होंने बताया कि राज्य में एक पर्यवेक्षक को महिला कार्यकर्ताओं के साथ दुर्व्यवहार करने के आरोप में निलंबित किया गया है। संवेदनशील जिलों में जरूरत पड़ने पर विशेष पर्यवेक्षक नियुक्त किए जाएंगे। इससे पूर्व मंगलवार को निर्वाचन आयोग की फुल बेंच ने उत्तर बंगाल के आठ जिलों के जिला शासक एवं पुलिस अधीक्षकों के साथ चुनाव के दौरान कानून व्यवस्था और तैयारियों पर चर्चा की थी। इस दौरान 11 अन्य जिलों के अधिकारी भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक में शामिल थे। इस दौरान कानून- व्यवस्थाओं समेत चुनाव की तैयारियों की समीक्षा की गई। हिन्दुस्थान समाचार/सचिन

अन्य खबरें

No stories found.