mamta-lashed-out-at-bjp-from-chunchuda-chanditalla-and-uttarpara
mamta-lashed-out-at-bjp-from-chunchuda-chanditalla-and-uttarpara
पश्चिम-बंगाल

चुंचूड़ा, चंडीतल्ला और उत्तरपाड़ा से भाजपा पर जमके बरसी ममता 

news

हुगली, 5 अप्रैल (हि.स.)। राज्य विधानसभा चुनाव के तीसरे और चौथे चरण के दौरान हुगली जिले की कुल 18 विधानसभा सीटों पर चुनाव होने हैं। इसको लेकर सभी राजनीतिक दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। इसी क्रम में सोमवार को तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी ने हुगली जिले के चुंचूड़ा, चंडीतल्ला और उत्तरपाड़ा से भारतीय जनता पार्टी पर जमके निशाना साधा। चुंचूड़ा में तृणमूल कांग्रेस के चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि हुगली जिले के कल-कारखाने केंद्र सरकार के कारण बंद पड़े हैं। डनलप कारखाने को लेकर राज्य सरकार ने पहले ही केंद्र सरकार को चिट्ठी दी थी और उस कारखाने के अधिग्रहण करने की अनुमति मांगी थी। लेकिन केंद्र सरकार के निराशाजनक रवैये के कारण डनलप करखाने पर निर्भर लोग बदहाल पड़े हैं। ममता बनर्जी ने कहा कि हुगली जिले के विभिन्न इलाकों में बड़ी संख्या में तांती हैं और वे तांत साथी के कारण बचे हुए हैं। साथ ही ममता ने भाजपा को ममता बनर्जी ने चोरों की पार्टी बताया। तृणमूल सुप्रीमो ने आगे कहा कि भाजपा के पास अपना उम्मीदवार नहीं है उनका उम्मीदवार या तो तृणमूल कांग्रेस से चुराया हुआ है या माकपा से। आठ चरण में चुनाव करवाने को लेकर भी उन्होंने चुनाव आयोग को भी घेरा। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कहा कि सुकमा में सैनिकों की शहादत के बावजूद भाजपा के नेता बंगाल चुनाव में डटे हुए हैं। उन्हें सैनिकों की चिंता नहीं है। उन्हें बस चुनाव की चिंता है। ममता ने यह भी कहा एक पैर पर चलकर वह बंगाल को जीत लगी। चंडीतल्ला में भी विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी ने लगभग यही बातें कहीं और लोगों से तृणमूल कांग्रेस के पक्ष में मतदान करने की अपील की। वहीं उत्तरपाड़ा में चुनावी जानसभा को संबोधित करते हुए ममता ने कहा कि अच्छा हुआ उत्तरपाड़ा के विधयाक चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस छोड़कर चले गए। चुनाव के बाद जाते तो ज्यादा नुकसान होता। ममता ने आरोप लगाया कि चुनाव से पहले नंदीग्राम में भाजपा ने लोगों को धमकाया था उसकी पुनरावृत्ति उत्तरपाड़ा में न हो इसके लिए तृणमूल सुप्रीमो ने अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं को सचेत किया। हिन्दुस्थान समाचार/धनंजय/गंगा